प्रधानमंत्री को गुजरात की 50000 प्यासी बहनों ने लिखा पत्र , “भाई कुछ करो , नहीं पानी के बिना मर जायेंगे “

| Updated: June 19, 2022 9:10 pm

गुजरात के बनासकांठा की महिला पशुपालक वंदनाबेन लिम्बाचिया पोस्टकार्ड और पेन हाथ में लिए उन सैकड़ो महिलाओं में से एक है जो अपने प्रधानमंत्री भाई को परेशान होकर पत्र लिख रही है , उनकी पीड़ा इस बात को लेकर भी है की जिला प्रशासन और राज्य सरकार उनकी कोई सुनवाई नहीं कर रही है। वह एक एक बूंद पानी के लिए परेशान है . वंदनाबेन लिम्बाचिया कहती हैं , “हमें पानी की बहुत बड़ी समस्या है।” आज हम बिना किसी समाधान के प्रधानमंत्री को पत्र लिख रहे हैं। तो एक अन्य महिला पशुचारक अनुबेन चौधरी कहती हैं, ”हमारे भाई प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, ‘मेरी बहनों, अगर आपको कोई समस्या है, तो एक पत्र लिखो. आज हम मुसीबत में हैं, इसलिए आज हम पत्र लिख रहे हैं.’ अगर हमारी मांग नहीं मानी गई तो हम उग्र आंदोलन करेंगे।

View Post

जल आंदोलन अब तेज हो गया है.

बनासकांठा जिले के वडगाम के करमावत झील और वडगाम के मुक्तेश्वर बांध में पानी भरने के लिए जल आंदोलन अब तेज हो गया है. किसानों की महरेली के बाद भी कोई समाधान नहीं होने से अब 125 गांवों की 50 हजार महिलाओं ने आज से प्रधानमंत्री मोदी को पत्र लिखना शुरू कर दिया है. जिसमें महिलाओं ने प्रधानमंत्री से अपने क्षेत्र में पानी की समस्या को दूर करने की मांग की है.

बनासकांठा के वडगाम और पालनपुर में जल स्तर इतना गहरा है कि किसानों को सिंचाई के लिए पर्याप्त पानी नहीं मिलता है। ताकि किसान खेती और पशुपालन में पर्याप्त रूप से न लगे। इसके चलते किसानों की स्थिति बद से बदतर होती जा रही है। इसी को लेकर वडगाम के करमावत झील और मुक्तेश्वर बांध में पानी डालने की मांग को लेकर किसान पिछले 2 महीने से आंदोलन कर रहे हैं.

कुछ दिन पूर्व 125 गांवों के 50 हजार से अधिक किसानों ने पालनपुर में एक विशाल महरेली निकालकर कलेक्टर को आवेदन दिया था.

जिसमें कुछ दिन पूर्व 125 गांवों के 50 हजार से अधिक किसानों ने पालनपुर में एक विशाल महरेली निकालकर कलेक्टर को आवेदन दिया था. उसके बाद गांव के किसानों ने गांव के मंदिरों और चौकों पर महाआरती के दीप जलाकर सरकार और व्यवस्था के होश में आने की प्रार्थना की. हालांकि उसके बाद भी सरकार या व्यवस्था की ओर से कोई कार्रवाई नहीं की गई और अंतत: 125 गांवों की महिला पशुचारक अब जल आंदोलन में शामिल हो गई हैं. आज 125 गांवों में महिलाओं ने ग्राम दुग्ध समितियों, ग्राम चौकों का गठन किया है।

वडगाम में करामावत झील और मुक्तेश्वर बांध से पानी की मांग कर रही हैं

आज महिला प्रधानमंत्री को पत्र लिखकर वडगाम में करामावत झील और मुक्तेश्वर बांध से पानी की मांग कर रही हैं. वडगाम और पालनपुर में पानी की गंभीर समस्या है। जो लोग अपनी आजीविका के लिए कृषि और पशुपालन पर निर्भर हैं, वे पानी के बिना असहाय हो गए हैं। महिला पशुपालकों का कहना है कि प्रधानमंत्री ने कहा कि अगर आपको कोई समस्या है तो बस अपने भाई को एक पत्र लिखो, इसलिए आज हम अपने भाई को अपना दुख व्यक्त करने के लिए लगभग 50 हजार पत्र लिख रहे हैं। लेकिन अगर हमारी मांग नहीं मानी गई तो हम निकट भविष्य में एक उग्र आंदोलन शुरू करेंगे।

किसान, महिलाएं और लोग अब वडगाम और पालनपुर में जल आंदोलन कर रहे हैं, निकट भविष्य में आंदोलन तेज होने की संभावना है। देखना होगा कि कब प्रशासन , सरकार या प्रधानमंत्री पानी की समस्या का समाधान निकालेंगे या किसान बड़ा आंदोलन करने को मजबूर होंगे।

बनासकांठा में पानी की हाहाकार ,भाजपा प्रदेश प्रमुख सीआर पाटिल ने दिलाया भरोसा

बनासकांठा की करमावत सरोवर को भरने के लिए मुख्यमंत्री ने की पहल

Your email address will not be published.