अहमदाबाद: मेधावी छात्रों को दिए जाने वाले पदकों की कीमतों में भारी वृद्धि

| Updated: August 29, 2022 1:31 pm

जो लोग पदकों (medals) के माध्यम से छात्रों के शानदार अकादमिक प्रदर्शन का सम्मान करना चाहते हैं, उन्हें सोने के दिल की आवश्यकता होगी क्योंकि विश्वविद्यालयों को उम्मीद है कि दानकर्ता सोने की कीमतों और प्रशासन की लागत में समग्र वृद्धि को ध्यान में रखते हुए वित्तीय क्षमता दिखाएंगे।
उदाहरण के लिए, गुजरात विश्वविद्यालय (Gujarat University) ने प्रायोजन राशि (sponsorship amount) को चौगुना कर दिया है, जो 2018 में 50,000 रुपये से अब 2 लाख रुपये होगी। गुजरात विश्वविद्याल हर साल मेधावी छात्रों को लगभग 175 पदक प्रदान करता है।
जब सोने और चांदी की कीमतों की बात करें, तो पिछले कुछ वर्षों में पदक सामग्री (medal ingredients) की लागत काफी बढ़ गई है, और विश्वविद्यालयों की जमा राशि पर ब्याज दरों में गिरावट आई है।
गुजरात विश्वविद्याल के कुलपति हिमांशु पंड्या ने कहा, “सोने और चांदी की बढ़ती लागत और हमारी जमा राशि पर गिरती ब्याज दरों ने विश्वविद्यालय को पदक प्रायोजन राशि बढ़ाने के लिए मजबूर किया है।”
सोने की बढ़ती कीमतों के बीच हेमचंद्राचार्य उत्तर गुजरात विश्वविद्यालय (HNGU) ने भी अपनी पदक प्रायोजन राशि 50,000 रुपये से बढ़ाकर 1 लाख रुपये कर दी है। कुलपति जे जे वोरा ने कहा कि विश्वविद्यालय हर साल छात्रों को 80 पदक प्रदान करता है और लागत को पूरा करने के लिए प्रायोजन कोष जुटाना अनिवार्य था।
क्रांतिगुरु श्यामजी कृष्ण वर्मा कच्छ विश्वविद्यालय (Krantiguru Shyamji Krishna Verma Kutch University) में परीक्षा नियंत्रक तेजस शाह ने कहा कि संस्था में पदक प्रायोजन को 1.50 लाख रुपये से बढ़ाकर 2 लाख कर दिया गया है। विश्वविद्यालय हर साल मेधावी छात्रों को 25 पदक प्रदान करता है।
विश्वविद्यालयों का कहना है कि सोने और चांदी की बढ़ती कीमतों और जमा पर ब्याज से कम आय की दोहरी मार के अलावा, उनके पास पदकों के बारे में दाताओं को संचार के रूप में अन्य आवर्ती लागतें हैं, और कई दाताओं का तो पता भी नहीं लगाया जा सकता है।
एक विश्वविद्यालय के एक अधिकारी ने कहा, “हमें हर साल दानदाताओं को पत्र लिखकर पदक प्राप्त करने वालों के बारे में सूचित करना पड़ता है।” “कई मामलों में, कई पत्र भेजने पड़ते हैं क्योंकि दाता कई बार दिए गए पते पर उपलब्ध नहीं होते हैं। यह सब लागत में जुड़ता है।”

राज्य में मादक पदार्थों की तस्करी पर अरविंद केजरीवाल ने गुजरात सरकार की खिंचाई की

Your email address will not be published.