छह साल में दूसरी बार CBI ने अहमदाबाद में ED कार्यालय पर छापा मारा

| Updated: July 2, 2021 9:39 pm

केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने 2 जुलाई, 2021 को प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) के कार्यालय पर छापा मारा और ईडी के दो वरिष्ठ अधिकारियों, निदेशक पूर्णकरम सिंह और अतिरिक्त निदेशक भुवनेश कुमार को रिश्वत के मामले में डिटेन किया है। सीबीआई सूत्रों के मुताबिक, दोनों ने गुजरात के कपडवंज तालुका में स्थित एचएम इंडस्ट्रीज प्राइवेट लिमिटेड से कथित तौर पर ईडी में उनके खिलाफ दर्ज एनपीए (नॉन-परफॉर्मिंग एसेट) मामले में मदद करने के लिए 75 लाख रुपये की रिश्वत मांगी थी।
सीबीआई के वरिष्ठ अधिकारियों ने कहा कि चल रही जांच के अनुसार, रिश्वत के पैसे की पहली खेप, 5 लाख रुपये की राशि, दिल्ली में एक अंगडिया फर्म के माध्यम से भेजी गई थी।
“हमने अंगड़िया फर्म के कर्मचारी को पकड़ा और उसके माध्यम से पता चला कि पैसा अहमदाबाद में ईडी कार्यालय के निदेशक पूर्णकरम सिंह और सहायक निदेशक भुवनेश कुमार को दिया जाना था। 50 लाख रुपये की अगली किस्त बाद में भुगतान की जानी थी। मामला सुलझने के बाद पांच लाख रुपये की अंतिम किस्त का भुगतान किया जाना था।
सीबीआई अधिकारियों ने बताया कि इस सूचना के आधार पर उन्होंने अहमदाबाद में हेमेट सर्कल के पास स्थित ईडी कार्यालय पर छापा मारा और पूर्णाकरण सिंह और भुवनेश कुमार दोनों को पकड़ लिया.
सीबीआई के एक अधिकारी ने कहा, “दोनों को उनकी आधिकारिक गिरफ्तारी से पहले कोविड -19 परीक्षण के लिए भेजा गया है।”
सीबीआई सूत्रों के मुताबिक, एचएम इंडस्ट्रीज ने बैंक ऑफ बड़ौदा से 1.04 करोड़ रुपये का कर्ज लिया था और उसे चुकाया नहीं था.
“इसलिए ईडी ने एचएम इंडस्ट्रीज के खिलाफ मामला दर्ज किया है। ईडी अधिकारी, पूर्णकाकरम सिंह और भुवनेश कुमार ने मामले को निपटाने के लिए रिश्वत की मांग की। एचएम इंडस्ट्रीज ने इसके लिए सहमति व्यक्त की और दिल्ली में एक अंगडिया फर्म के माध्यम से 5 लाख रुपये की पहली किस्त का भुगतान भी किया। हमने लिंक का पता लगाया, जो हमें ईडी कार्यालय तक ले गया। दोनों आरोपियों के कार्यालय और आवासीय स्थानों पर तलाशी जारी है, “सीबीआई के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा।

Your email address will not be published.