"ऑल अबाउट अल्कोहल": गोवा के व्यवसायीने बनाया शराब का संग्रहालय, 'फेनी' को किया समर्पित - Vibes Of India

Gujarat News, Gujarati News, Latest Gujarati News, Gujarat Breaking News, Gujarat Samachar.

Latest Gujarati News, Breaking News in Gujarati, Gujarat Samachar, ગુજરાતી સમાચાર, Gujarati News Live, Gujarati News Channel, Gujarati News Today, National Gujarati News, International Gujarati News, Sports Gujarati News, Exclusive Gujarati News, Coronavirus Gujarati News, Entertainment Gujarati News, Business Gujarati News, Technology Gujarati News, Automobile Gujarati News, Elections 2022 Gujarati News, Viral Social News in Gujarati, Indian Politics News in Gujarati, Gujarati News Headlines, World News In Gujarati, Cricket News In Gujarati

“ऑल अबाउट अल्कोहल”: गोवा के व्यवसायीने बनाया शराब का संग्रहालय, ‘फेनी’ को किया समर्पित

| Updated: September 24, 2021 17:52

“ऑल अबाउट अल्कोहल” गोवा के इतिहास और संस्कृति को प्रदर्शित करने के लिए कोंडोलिम में 13,000 वर्ग फुट की संपत्ति पर स्थापित पांच कमरों वाला संग्रहालय है। गोवा का फेमस पैय ‘फेनी’ है, जो काजू में से बनता है| किण्वित काजू से अल्कोहल कैसे निकाला जाता है, उसके दस्तावेज इस संग्रहालय में पाए जाते हैं।

सदियों से फेनी का उत्पादन, परिवहन और उपभोग किया जा रहा है। “शराब पीने की कला” को समर्पित यह संग्रहालय व्यवसायी और कला संग्रहकर्ता नंदन कुडचाडकर का नवीनतम साहस है।

नंदनजी ने कहा था की, “मेरे लिए, फेनी मेरी मातृभूमि के लिए एक श्रद्धांजलि है,”। हजारों बहुरंगी गैराफस (बड़ी बेल वाली कांच की बोतलें), जो आत्मा को धारण करने के लिए उपयोग की जाती हैं, वे दीवारों को सजा रही हैं। संग्रहालय में 1950 के दशक के काजू और नारियल फेनी को रखने के लिए अपना तहखाना है।

गोवा के मूल निवासी अरमांडो डुआर्टे द्वारा संचालित, संग्रहालय को देखने के लिए 30 मिनट लगता हैं, जिसके अंत में आगंतुक कुछ फेनी कॉकटेल का नमूना भी ले सकते हैं, जो इन-हाउस मिक्सोलॉजिस्ट लियोनेल गोम्स द्वारा तैयार किए गए हैं।

संग्रहालय शराब से संबंधित सामग्री का एक प्रभावशाली संग्रह प्रदर्शित करता है। 16वीं सदी का एक मापने वाला उपकरण, रूस से प्राप्त एक दुर्लभ क्रिस्टल बियर हॉर्न, एक प्राचीन लकड़ी का शॉट डिस्पेंसर, प्राचीन मिट्टी के बर्तन, बीकर, और दुनियाभर से कांच के बने पदार्थ कुछ ऐसे सामान हैं, जिन्हें कुडचडकर के व्यक्तिगत संग्रह से चुना गया है। फिर भी वह कहते हैं की, “जो आप यहां देख रहे हैं, वह मेरे पास जो कुछ भी है उसका पांचवां हिस्सा भी नहीं है,” अगले महीने, वह संग्रहालय में पांच और कमरे जोड़ने वाले है और अपने संग्रह में से अधिक रत्न जोड़ने की योजना बना रहा है।

संग्रहालय-निर्माता का उद्देश्य गोवा के लोगों के बारे में जो बॉलीवुड फिल्मों में टाइपकास्ट के रूप में लगातार नशे में रहेते हुए दिखाते है उस धारणा को बदलना है। उन्होंने कहा की, “हम आपको 1500 की दशक में बने एक गिलास से एक पेय पीने की सुंदरता दिखाना चाहते हैं और हम आपको बताएंगे कि कैसे अतीत की कुछ बेहतरीन कांच की फैक्ट्रियां अब नष्ट हो गईं है।

Your email address will not be published. Required fields are marked *