गुजरात -प्रमुख स्वामी जन्म शताब्दी महोत्सव के कारण एक सप्ताह पहले हो जायेगा चुनाव

| Updated: September 19, 2022 9:02 am

स्वामीनारायण संप्रदाय Swaminarayan Sampradaya के प्रमुख स्वामी के जन्म शताब्दी महोत्सव के कारण गुजरात विधानसभा चुनाव( Gujarat assembly election )के तारीख के लिहाज से एक सप्ताह पहले आयोजित हो सकते हैं। सूत्रों के मुताबिक गुजरात विधानसभा का चुनाव नवंबर के अंत या दिसम्बर के पहले सप्ताह में होने की सम्भावना है। प्रमुख स्वामी का जन्म शताब्दी महोत्सव का आयोजन 15दिसम्बर से 13 जनवरी के बीच आयोजित हो सकते हैं।

जिसमे 10 लाख से अधिक लोग शामिल होंगे। स्वामीनारायण संप्रदाय गुजरात का प्रमुख धार्मिक आधार वाला प्रभावशाली संप्रदाय है , जिसके करोडो अनुयायी है। गुजरात में स्वामीनारायण संप्रदाय के अनुयायी मुख्य तौर से भाजपा समर्थक है। इसलिए भाजपा संगठन या सरकार किसी तरह से यह खतरा मोल नहीं ले सकती जिसमे उनके वोट बैंक पर असर पड़े।


2017 विधानसभा चुनाव के लिए गुजरात में 9 और 14 दिसम्बर को दो चरणों में मतदान हुआ था। इस बार मतदान की तारिख 25 नवम्बर से13 दिसम्बर के बीच घोषित की जा सकती है।


गुजरात में प्रधानमंत्री और गृह मंत्री के लगातार गुजरात दौरे इसके संकेत हैं। नवरात्र शुरू होते ही पीएम मोदी का गुजरात दौरा शुरू होने वाला है। अपने शेड्यूल के मुताबिक, प्रधानमंत्री मोदी 5 दिनों में 12 से ज्यादा जनसभाएं करने जा रहे हैं। इस दौरान कई विकास कार्यों की सौगात मिलेगी। वे 29, 30 सितंबर को सूरत, भावनगर, अंबाजी यात्रा पर आने वाले हैं। इसके साथ ही वह 9, 10 और 11 अक्टूबर में तीन दिन के लिए गुजरात आ रहे हैं।

पीएम मोदी के 9 अक्टूबर को मोडासा जाने की संभावना है। इसके साथ ही जामनगर और भरूच 10 अक्टूबर को दौरे पर हैं। 11 अक्टूबर को राजकोट का जामकंडोरणा जाने का कार्यक्रम है। इसके अलावा सितंबर में भी पीएम मोदी गुजरात के भी दौरे पर रहेंगे।

वही गृह मंत्री अमित शाह भी लगातार गुजरात के दौरे कर रहे है , इन सबके बीच बढ़ती महगाई , विभिन्न आंदोलन ,आम आदमी पार्टी का बढ़ता प्रभाव ,किसानो की नाराजगी , पशु पालकों की नाराजगी जैसे कई मुद्दे सरकार के खिलाफ जा रहे हैं। फिर भी चुनाव पिछली बार की निर्धारित तारीख से एक सप्ताह पहले हो जायेगा।

विपुल चौधरी के समर्थन में चौधरी समाज ने भरी हुंकार , 7 दिन में रिहा नहीं किया तो…..

Your email address will not be published.