गुजरात - वैक्सीन के दोनों डोज़ लेने बाद भी कोरोना से हुई मौत -

Gujarat News, Gujarati News, Latest Gujarati News, Gujarat Breaking News, Gujarat Samachar.

Latest Gujarati News, Breaking News in Gujarati, Gujarat Samachar, ગુજરાતી સમાચાર, Gujarati News Live, Gujarati News Channel, Gujarati News Today, National Gujarati News, International Gujarati News, Sports Gujarati News, Exclusive Gujarati News, Coronavirus Gujarati News, Entertainment Gujarati News, Business Gujarati News, Technology Gujarati News, Automobile Gujarati News, Elections 2022 Gujarati News, Viral Social News in Gujarati, Indian Politics News in Gujarati, Gujarati News Headlines, World News In Gujarati, Cricket News In Gujarati

गुजरात – वैक्सीन के दोनों डोज़ लेने बाद भी कोरोना से हुई मौत

| Updated: September 14, 2022 12:35

अहमदाबाद( Ahmedabad )के सोला सिविल हॉस्पिटल (Sola Civil Hospital )में सोमवार (Monday)शाम को कोरोना से 57 साल के एक मरीज़ की मौत हो गयी। लेकिन मृतक ने कोरोना के दोनों डोज लिए थे। दिल्ली दरवाजा निवासी इस अधेड़ मरीज़ को दो दिन पहले गंभीर हालत में निजी अस्पताल से सोला सिविल में शिफ्ट किया था। वंहा उनको वेंटिलेटर पर रखा गया था। सूत्रों के अनुसार मरीज़ ने कोरोना वैक्सीन (Corona Vaccine )के दोनों डोज़ लिए थे। इस मरीज़ की मौत के बाद फिलहाल सोला सिविल में कोरोना के कोई मरीज भर्ती नहीं है।

दूसरी तरफ सिविल हॉस्पिटल (Civil Hospital )में कोरोना के 6 और स्वाईन फ्लू ( Swine flu )के कुल 7 मरीज़ भर्ती हैं। सूत्रों के मुताबिक 7 स्वाइन फ्लू के मरीज़ में से 5 ऑक्सीजन पर हैं जबकि 2 हालत स्थिर है1200 बेड की अस्पताल में 5 कोरोना पॉजिटिव मरीज हैं। एक शंकास्पद है। पांच में से 3 कोरोना मरीज़ ऑक्सीजन पर है ।  एक मरीज़ बाइपेपऔर एक की तबियत स्थिर है।

सोला सिविल अस्पताल में स्वाईन फ्लू के दो बच्चे भर्ती कराये गए थे जिनको डिस्चार्ज होने के बाद हाल कोई भी स्वाईन फ्लू का मरीज़ है ।  डेढ़ महीने पहले सोला अस्पताल में स्वाईन फ्लू के 47 पॉजिटिव मरीज़ भर्ती हुए थे। हालाकि अभी तक सोला सिविल अस्पताल में स्वाईन फ्लू के कारण कुबेरनगर और सरखेज में रहने वाले मरीज़ की मौत हो चुकी हैं।

यह शोध का विषय है कि क्या दोनों डोज लगने के बाद भी एंटीबॉडी नहीं बनीं। अगर एंटीबॉडी बनीं तो पर्याप्त मात्रा में नहीं बनीं या जिस तरह की न्यूट्रलाइजिंग एंटीबॉडी चाहिए थीं, वो नहीं बनीं। तीसरी संभावना ये है कि जो एंटीबॉडी थीं, वे वायरस के इस स्‍ट्रेन के खिलाफ कारगर नहीं हैं। 

गुजरात -आंदोलन में एक पूर्व सैनिक की मौत, पुलिस से भिड़ंत ,सैनिकों ने जताया आक्रोश

Your email address will not be published. Required fields are marked *