गुजरात के पूर्व पुलिस प्रमुख ने कही प्रिवेंटिव फोरेंसिक से कारोबार को सुरक्षित करने की बात

| Updated: May 21, 2022 5:21 pm

अहमदाबाद मैनेजमेंट एसोसिएशन में ‘निवारक फोरेंसिक और निवारक सतर्कता के माध्यम से सुरक्षित व्यवसाय’ विषय पर सेमिनार हुआ। इसमें गुजरात पुलिस के पूर्व महानिदेशक और भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो के निदेशक रहे केशव कुमार मुख्य वक्ता थे। संगोष्ठी का उद्देश्य प्रतिस्पर्धा, भ्रष्टाचार, प्रौद्योगिकी और धोखाधड़ी के युग में व्यापार की सुरक्षा को बढ़ावा देना था।

आईपीएस (भारतीय पुलिस सेवा) अधिकारी श्री कुमार पिछले साल सेवानिवृत्त हुए थे। उन्हें धोखाधड़ी का पता लगाने और फोरेंसिक तरीकों के बारे में समृद्ध अनुभव और ज्ञान है।

श्री कुमार ने कहा कि गुजरात के अच्छे कारोबारी माहौल ने उन्हें व्यावसायिक सुरक्षा के विषय पर बोलने के लिए प्रेरित किया। उन्हें विश्वास है कि उनके द्वारा साझा की गई रणनीति राज्य के लोगों के लिए बेहद उपयोगी साबित होगी। अपने उद्घाटन भाषण में श्री कुमार ने कहा, “मुझे हमेशा से फोरेंसिक साइंस में बहुत विश्वास रहा है। मैंने देखा है कि गुजरात में लगभग सभी लोग व्यवसायी हैं। इसलिए, मैंने इस राज्य में इस विषय पर एक संगोष्ठी आयोजित करने के बारे में सोचा और अंतर्राष्ट्रीय मानव संसाधन दिवस के दिन इस व्याख्यान को देने का कितना अच्छा समय है।”

उन्होंने अपने व्याख्यान की शुरुआत आर्थिक अपराधों को लेकर की और कर्मचारियों द्वारा आम अपराधों के साथ-साथ प्रमुख प्रकार की धोखाधड़ी से निपटने के तरीकों के बारे में बताया। उन्होंने रोजगार से पहले और रोजगार के बाद की जांच जैसे समाधान भी प्रस्तावित किए।

वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने धोखाधड़ी में योगदान देने वाले कारकों के अलावा नुकसान की मात्रा के बारे में भी बात की। शोध के निष्कर्षों का हवाला देते हुए उन्होंने कहा, “सर्वे के अनुसार, 14 महीने तक किसी को आपकी कंपनी में धोखाधड़ी के बारे में पता नहीं चल सकता है, क्योंकि यह धोखाधड़ी का पता लगाने का औसत समय है।”

उन्होंने एक कंपनी के विभागों पर एक विस्तृत प्रेजेंटेशन दिया, जो धोखाधड़ी के लिए सबसे अधिक संवेदनशील हैं। साथ हीर धोखाधड़ी को छिपाने, भौतिक और इलेक्ट्रॉनिक दस्तावेजों को बदलने और निवारक सतर्कता जैसे मुद्दों पर बात की।

श्री कुमार ने जालसाजों के बदले व्यवहार के बारे में भी बताया। इनमें साधनों से परे रहना, वित्तीय कठिनाइयां, विक्रेताओं और ग्राहकों से निकटता, कर्तव्यों को साझा करने की अनिच्छा और परेशान व्यक्तिगत जीवन शामिल हैं। उन्होंने कहा कि जो लोग 55 वर्ष से अधिक आयु के हैं, उनके साथ 20 के दशक की शुरुआत वाले व्यक्तियों की तुलना में धोखाधड़ी होने की आशंका अधिक होती है।

उच्च अधिकारियों द्वारा इस्तेमाल की गई धोखाधड़ी का पता लगाने के तरीकों पर प्रकाश डालते हुए उन्होंने एलवीए (लेयर्ड वॉयस एनालिसिस) की उपयोगिता के बारे में बात की। उन्होंने कहा, “एलवीए जानकारी निकालने का सबसे अच्छा तरीका है, क्योंकि हमें (अधिकारियों) को संदिग्धों को कोसने या पीटने की जरूरत नहीं है।”

Your email address will not be published.