केजरीवाल ने सी आर पाटिल को बताया असली सीएम , पूछे तीन सवाल

| Updated: May 12, 2022 2:31 pm

  • सी आर पाटिल बताये 27 साल में कितने लोगों को कराई तीर्थ यात्रा -केजरीवाल
  • क्यों गुजरात के सरकारी स्कूल , अस्पताल हैं बदहाल
  • कांग्रेस ने नेता को आप में जाने से भाजपा ने किया मना
  • हमारे लोगों को क्यों पीटा जा रहा है , हमसे इतना डर क्यों हैं।
  • गुजरात से किया आह्वान -एक बार मौका दें , काम नहीं करें तो बदल देना
  • पेपर नहीं संभाल सकते सरकार क्या चलाओगे

अरविंद केजरीवाल ने राजकोट के शास्त्री मैदान में सभा को संबोधित किया। उन्होंने बैठक में उपस्थित सभी लोगों का धन्यवाद किया। शिक्षा को लेकर केजरीवाल ने एक बार फिर बीजेपी सरकार पर धावा बोल दिया. उन्होंने कहा कि लोग कहते हैं की मुख्यमंत्री सी आर पाटिल हैं , वह बताये की 27 साल में कितने लोगों को तीर्थ यात्रा कराई , स्कूलों की हालत इतनी ख़राब क्यो है, अस्पताल इतने ख़राब क्यों हैं ,हमारे लोगो को क्यों पीटा जा रहा है , हमारी गाड़िया क्यों थोड़ी जा रही हैं।

कांग्रेस के असंतुष्ट नेता का नाम लिए बिना हार्दिक पटेल पर निशाना साधते हुए कहा की कांग्रेस का एक बड़ा नेता हमारे साथ जुड़ना चाहता था ,लेकिन भाजपा ने उसे कहा आप में मत जाओ कांग्रेस में ही रहो , उसने पूछा क्यों तो भाजपा वालों ने उसे कहा की कांग्रेस हमारी भाई बहन है ,

इसलिए इस बार भाई बहन दोनों को विदा कर देना। आजकल आम आदमी पार्टी की चर्चा गुजरात में गांव-गांव और घर-घर में हो रही है. दिल्ली के एक भी प्राइवेट स्कूल ने 7 साल में फीस नहीं बढ़ाई.किसी ने हिम्मत की तो सरकार संभालेगी.

सभा को संबोधित करते हुए, केजरीवाल ने कहा, “दिल्ली में हर कोई मुझसे बहुत प्यार करता है और मैंने सभी की खुशी के लिए काम किया है।” फिर गुजरात से भी बहुत से लोग मुझसे मिलने आते हैं और मेरे साथ बैठते हैं और उनकी समस्याएं सुनते हैं और मैं उन सभी लोगों की समस्याएं भी सुनता हूं।

इस साल 4 लाख छात्रों को सरकारी स्कूलों में मिला प्रवेश

केजरीवाल ने कहा, हम 50 हजार बुजुर्ग माता-पिता को यात्रा पर ले गए हैं। गुजरात में सरकारी स्कूलों की हालत खराब, शिक्षा के नाम पर जीरो है। 27 साल के शासन में भाजपा स्कूल को ठीक नहीं कर पाई है। पांच साल में सरकारी स्कूलों को शानदार बनाया गया है।

इस साल सरकारी स्कूल का रिजल्ट 99.97 फीसदी रहा है. 4 लाख लोगों का सरकारी स्कूलों में नामांकन हो चुका है। सरकारी स्कूल में पढ़ने वाले 450 छात्रों का आईआईटी में प्रवेश हो चुका है। हमने पांच साल में शिक्षा का स्तर ऊंचा किया लेकिन बीजेपी 27 साल में गुजरात में शिक्षा में सुधार क्यों नहीं कर पाई। दिल्ली की जनता ने मुझे मौका दिया, पंजाब ने मुझे मौका दिया, अब गुजरात की बारी है। आप मुझे मौका दें। मैं स्कूल और अस्पताल के नाम पर वोट मांगने आऊंगा।

बता दें, राजकोट में आज सामाजिक नेताओं और व्यापार और उद्योग संघों ने केजरीवाल से दूरी बना ली. हालांकि जब मोरबी के सिरेमिक कारोबारी केजरीवाल से मिलने पहुंचे तो कई सवाल उठे। राजकोट ऑल इंडिया सेरामिक्स के कारोबारियों ने केजरीवाल के हाथों में ‘आप’ का स्कार्फ पहना ।

सौराष्ट्र चुनाव का समीकरण

आपको बता दें कि गुजरात की कुल 182 सीटों में से 54 सीटें सौराष्ट्र क्षेत्र में हैं. सौराष्ट्र की इन 57 सीटों पर 2017 के चुनाव में बीजेपी का कांग्रेस से कड़ा मुकाबला था. पाटीदार आंदोलन के कारण सौराष्ट्र में कांग्रेस ने 55 प्रतिशत सीटें जीतीं जबकि भाजपा को 33 प्रतिशत सीटें मिलीं। इस तरह कांग्रेस ने 54 में से 30 सीटें जीतीं जबकि बीजेपी को 23 सीटें मिलीं.

सौराष्ट्र में आम आदमी पार्टी इस बार मजबूती के साथ चुनाव लड़ने की तैयारी कर रही है. दक्षिण गुजरात के सूरत नगर निगम के पाटीदार बहुल इलाके में स्थानीय निकाय चुनाव में आम आदमी पार्टी की सफलता ने सौराष्ट्र में उसकी उम्मीदें जगा दी हैं. माना जाता है कि सौराष्ट्र का पाटीदार समुदाय भाजपा से नाराज़ है और पिछली बार जब उन्होंने कांग्रेस को वोट दिया था, तब अरविंद केजरीवाल उसी निर्वाचन क्षेत्र में आने की कोशिश कर रहे थे।

पेपर नहीं संभाल सकते सरकार क्या चलाओगे

हालांकि गुजरात आम आदमी पार्टी के पास इतना बड़ा चेहरा नहीं है. राजकोट में केजरीवाल के पास इंद्रनील राज्यगुरु हैं, जो कांग्रेस छोड़कर आम आदमी पार्टी में एक बड़ा नाम हैं। केजरीवाल ने कुछ दिन पहले उन्हें पार्टी में शामिल किया था। इंद्रनील राज्यगुरु सौराष्ट्र में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता हैं जिन्होंने 2017 में विजय रूपानी के खिलाफ चुनाव लड़ा था। इसलिए केजरीवाल ने खुद इंद्रनील राजगुरु को सदस्यता दी है।

पाटीदारों पर नजर

हालांकि केजरीवाल ने पहले उम्मीद जताई थी कि सौराष्ट्र में एक सामाजिक संगठन के जरिए वह पाटीदारों से जुड़ सकेंगे। ऐसे में एक बार एंट्री हो जाने पर चुनाव में फायदा मिल सकता है, क्योंकि राज्य की राजनीति में पाटीदार वोटर काफी अहम माने जाते हैं.

पाटीदार वोटों के दम पर बीजेपी 27 साल तक सत्ता में रही और गुजरात में किसी भी पार्टी के लिए अपनी जगह बनाना संभव नहीं है. इसीलिए अरविंद केजरीवाल ने सबसे पहले आदिवासी समुदाय में राजनीतिक रूप से आधारित बीटीपी के साथ गठबंधन किया, जिसकी घोषणा उन्होंने 1 मई को भरूच में आदिवासी परिषद में की। अब केजरीवाल पाटीदार समुदाय की सेवा के लिए सौराष्ट्र आ रहे हैं।

राजकोट केजरीवाल पहुंचे , इंद्रनील राजगुरु का शक्ति परीक्षण.

Your email address will not be published.