सरदार पटेल स्टेडियम का नाम बदलने के खिलाफ प्रधानमंत्री को लिखा खून से खत

| Updated: June 15, 2022 8:35 pm

अहमदाबाद मोटेरा स्थित सरदार पटेल स्टेडियम का नाम प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी स्टेडियम करने का मामला जनाक्रोश का विषय बनता जा रहा है , सरदार सम्मान संकल्प समिति के बैनर तले आज सरदार वल्लभ भाई पटेल के गृह जिले खेड़ा में 11 अलग अलग समाज के लोगो ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को खून से हस्ताक्षरित खत लिखकर विरोध प्रदर्शित किया गया।

खत में उल्लेख किया गया है की सरदार पटेल ने देश की 562 रियासतों को जोड़कर देश को एक किया था ,ऐसे में उनके नाम पर बने स्टेडियम का नाम बदलकर नरेंद्र मोदी स्टेडियम किया गया है , जिससे सरदार पटेल का अपमान हुआ है , इसलिए सरदार पटेल स्टेडियम का नाम वापस सरदार पटेल स्टेडियम ही रखा जाये।

हस्ताक्षर करने वालों में पास के अतुल पटेल,भागवत परमार,बाबूभाई सोलंकी,मंगलभाई मकवाना,नटुभाई चौहान,घनश्यामभाई मकवाना,आगउल्लाह खान वी.पठान,भरत भाई परमार,मुस्तुफा मलेक, कल्पेशभाई बारोट,तौफीक भाई का समावेश है

अतुल पटेल ने वाइव्स आफ इंडिया को बताया की यह 11 अलग अलग समाज और जिलों के है , यह सांकेतिक विरोध है , अगर नाम नहीं बदला गया तो उग्र आंदोलन किया जायेगा , जब तक नाम नहीं बदला जायेगा तब तक विरोध जारी रहेगा। सरदार पटेल की खेड़ा सत्याग्रह की आज जीत हुयी थी , इसलिए आज का दिन चुना गया है।

विदित हो की सरदार संकल्प पिछले दो सप्ताह से इस मामले को लेकर विरोध कर रही , जिसके तहत सरदार पटेल म्यूजियम अहमदाबाद में पूर्व मंत्री दिनशा पटेल की अध्यक्षता में सभा की गयी थी जिसमे एसपीजी ,पास तथा गुजरात कांग्रेस के पहली पक्ति के नेता उपस्थित थे।

12 जून को बारडोली सत्याग्रह की उपलक्ष्य में बारडोली से मोटेरा स्थित नरेंद्र मोदी स्टेडियम तक वाहन रैली का आयोजन किया था , लेकिन सूरत ग्रामीण पुलिस ने पास के प्रमुख अल्पेश कथिरिया समेत 70 आंदोलनकारियों को हिरासत में ले लिया था ,जिससे रैली शुरू ही नहीं हो पायी थी।

सरदार संकल्प आंदोलन समिति के सदस्यों को पुलिस ने किया डीटेइन

“सरदार ” के सहारे उद्धार की कोशिश में कांग्रेस

Your email address will not be published.