ओह-माई-क्रॉन: फिर यात्रा कैंसिल, पैसा भी गया

| Updated: December 3, 2021 9:09 am

अगर आप नववर्ष का जश्न मनाने के लिए छुट्टी लेकर विदेश जाने की योजना बना रहे हैं, तो सतर्क हो जाएं। इसलिए कि नए यात्रा प्रतिबंधों के कारण आप न केवल यात्रा से वंचित हो सकते हैं, बल्कि पैसा भी पानी में चला जाएगा। इसलिए कि कोविड के एक और नए संस्करण की खोज ने दुनिया भर की सरकारों को पैर खींच लेने पर मजबूर कर दिया है।

वाइब्स ऑफ इंडिया को ऐसे कम से कम चार यात्री मिले हैं, जिन्होंने पिछले साल ही यात्रा की योजना बनाई थी, लेकिन दुनिया भर में कहर बरपाने वाले डेल्टा संस्करण के कारण नहीं जा पाए थे। उनमें से किसी को अभी तक उनका रिफंड भी नहीं मिला है।और अब बड़े और प्रमुख देशों कोविड के ओमिक्रॉन संस्करण की खोज के मद्देनजर उड़ानें रोक रहे हैं।

नया संस्करण या वेरिएंट क्या है? पश्चिम इसे कितनी गंभीरता से ले रहा है? उदाहरण के लिए, न्यूयॉर्क की गवर्नर कैथी होचुल ने नए कोरोनो वायरस संक्रमणों और अस्पताल में भर्ती होने के कारण इमरजेंसी लागू कर दी। यह आदेश 3 दिसंबर से प्रभावी होगा और 15 जनवरी को उपलब्ध नए  आंकड़ों के आधार पर स्थिति का पुनर्मूल्यांकन किया जाएगा। कहना ही होगा कि गुजराती और पंजाबी हमेशा अंतरराष्ट्रीय यात्राओं के शौकीन होते हैं। लेकिन इस समय जिन लोगों ने अंतरराष्ट्रीय यात्रा की योजना बनाई है, उनमें से अधिकांश असमंजस में पड़ गए हैं।

जैसे ही लोगों ने सोचा कि महामारी का सबसे बुरा दौरा पीछे चला गया है और वे आखिरकार लंबे समय से चल रही विदेश यात्रा की योजना बना सकते हैं, तभी यह खबर जोर का झटका साबित हुई। साथ ही कई सवाल भी उठ गए हैं। पहला सवाल रिफंड को लेकर है। होम शेफ नेहा अग्रवाल ने चार महीने से अधिक समय तक अपने रिफंड का इंतजार किया। उन्होंने एक एजेंट के माध्यम से अपने परिवार के लिए टिकट बुक किया था। कोविड के बढ़ते मामलों के कारण जब उन्हें दुबई की अपनी यात्रा रद्द करने के लिए मजबूर किया गया, तो उन्हें  2,40,000 रुपये के रिफंड के बजाय एक क्रेडिट नोट मिला।

नेहा ने कहा, “यहां तक कि पूरे प्रकरण के बारे में सोचकर भी थक जाती हूं। कैशबैक के बजाय मुझे एक क्रेडिट नोट मिला, जिसे मैं अगले छह महीनों में यात्रा करते समय भुना सकती हूं। कोविड के बढ़ते मामलों के कारण यह स्पष्ट था कि हम यात्रा नहीं कर पाएंगे, लेकिन ट्रैवल कंपनी समझने के मूड में नहीं थी। अंतत: मैंने अपने सहयोगियों से इस मुद्दे से निपटने के लिए कहा। चार महीने की परेशानी के बाद हमें रिफंड मिला, लेकिन वह भी कई कटौतियों के साथ। मैंने कुछ समय के लिए यात्रा नहीं करने की कसम खा ली है। ”

ट्रैवल एजेंट पूरा पैसा वापस करने के बजाय ‘ट्रैवल क्रेडिट’ का विकल्प चुन रहे हैं। द वोयाजुर के आरोही शाह बताते हैं: “कोविड के बाद से स्थिति या सरकारी कानूनों की भविष्यवाणी करना मुश्किल हो गया है। अगर हम पूर्ण धनवापसी देना शुरू करते हैं तो हमें भारी नुकसान हो सकता है। छह महीने या यहां तक कि 12 महीने के लिए यात्रा क्रेडिट प्रदान करना एकमात्र बीच का रास्ता है। यदि ग्राहक भविष्य में यात्रा करना चाहता/चाहती है, तो वह आसानी से इसे भुना सकता/सकती है। कोविड के नए संस्करण से पैदा हुए तनाव के कारण हमें और बुकिंग की उम्मीद नहीं है। नए संस्करण ने लोगों की भावनाओं या मनोदशा को प्रभावित किया है। उन्हें सावधान रहने के लिए बाध्य है।”

एक और उदाहरण देखें। एक वृद्ध दंपति-87 वर्षीय नैनाबेन पटेल और उनके 92 वर्षीय पति, जिन्होंने शिकागो जाने की योजना बनाई थी, नौ महीने से अधिक समय से धनवापसी की प्रतीक्षा कर रहे हैं। इसी तरह अहमदाबाद के रानिप के निवासियों का 87,000 रुपये का रिफंड बकाया है।

कोविड की दूसरी लहर के कारण यात्रा बुकिंग रद्द करने वालों में से केवल 12-13 प्रतिशत को ही समय पर रिफंड मिल सका था। 12 महीनों के बाद अपनी यात्रा के लिए रिफंड पाने वाले पीयूष लाल ने कहा, “मुझे आठ महीने तक फॉलो-अप करना पड़ा। उसके बाद ही मुझे स्पाइसजेट से रिफंड मिला। हमने दोस्तों के साथ जब यात्रा की योजना बनाई थी,  तब कोविड की भविष्यवाणी नहीं थी। एयरलाइंस, रेलवे या होटलों की मौजूदा नीतियां उपभोक्ताओं के हित में नहीं हैं। हम चाहते हैं कि सरकार तब तक के लिए ट्रैवल बुकिंग रिफंड पॉलिसी लेकर आए, जब तक कि कोविड-19 महामारी है।”

जिन देशों ने अभी यात्रा प्रतिबंध लगाए हैं उनमें इजराइल, जापान, ऑस्ट्रेलिया, कनाडा, इटली, इंडोनेशिया, मोरक्को, नीदरलैंड, न्यूजीलैंड, फ्रांस,जर्मनी, मालदीव, माल्टा, स्पेन, सिंगापुर और अन्य शामिल हैं।

ऑल फोर सीजन ट्रैवल्स के मालिक अंशुल शाह ने निरंतर ‘भ्रम’ की स्थिति के बारे में बताया, जिसका सामना यात्रा उद्योग के लोग कर रहे हैं। उन्होंने कहा, “नए कोविड संस्करण के कारण बहुत भ्रम है। मुंबई हवाईअड्डा कनेक्टिंग उड़ानों का केंद्र है और एक होटल में 14 दिन के क्वारंटीन की घोषणा करने से बड़ी संख्या में रद्दीकरण हो जाएगा। ग्राहक परेशानी में नहीं पड़ना चाहते। मुझे संदेह है कि इस निर्णय के कारण 100% रद्दीकरण होगा। रिफंड एक और बड़ा मुद्दा होगा।”

पाथफाइंडर्स हॉलिडेज के मालिक महेंद्र वखारिया अंतरराष्ट्रीय यात्रा बुकिंग में हैं। नए यात्रा प्रतिबंधों के कारण उन्हें व्यापार में कम से कम 50% का नुकसान हुआ है। उन्होंने कहा, “दिवाली तक सब कुछ वापस पटरी पर आ रहा था, लेकिन नए संस्करण ने फिर से उद्योग में निराशा ला दी है। यूरोप के लिए हमारी प्रमुख बुकिंग, विशेष रूप से छुट्टियों और हनीमून के लिए, स्थगित कर दी गई हैं। कोविड के होने के बाद से हम बड़े नुकसान से गुजरे हैं और ग्राहक के साथ हम पर वित्तीय बोझ का फिर बढ़ना तय है।”

इस बीच भारत सरकार, जिसने 15 दिसंबर से अंतरराष्ट्रीय उड़ानें फिर से शुरू करने की घोषणा की थी, ने निर्णय पर फिर से विचार करने और योजना को ठंडे बस्ते में डालने का फैसला किया है। नया फैसला दक्षिण अफ्रीका में पहचाने जाने गए कोविड के ओमिक्रॉन नामक नवीनतम संस्करण के मद्देनजर आया है।

नागरिक उड्डयन महानिदेशालय (डीजीसीए) ने एक सर्कुलर जारी किया है। इसमें लिखा है, “चिंता के नए रूपों के उभरने के साथ वैश्विक परिदृश्य को देखते हुए सभी हितधारकों के परामर्श से स्थिति की बारीकी से समीक्षा की जा रही है। अंतरराष्ट्रीय उड़ानें फिर से शुरू करने का उचित निर्णय अनुकूल हालात को देखते हुए जल्द लिया जाएगा। इसकी सूचना उचित समय पर दी जाएगी।”

लगभग 20 महीने पहले कोविड महामारी के फैलने के बाद से भारत में अंतरराष्ट्रीय उड़ानों का पूरा कार्यक्रम संचालित नहीं किया गया है। कुछ विशेष उड़ानों को विशिष्ट एयर बबल व्यवस्था के तहत मंजिल चुनने की अनुमति दी गई है।

Your email address will not be published.