साबरमती रिवरफ्रंट डेवलपमेंट कॉरपोरेशन रिवरफ्रंट के फेज 2 के लिए लेगा 350 करोड़.

Gujarat News, Gujarati News, Latest Gujarati News, Gujarat Breaking News, Gujarat Samachar.

Latest Gujarati News, Breaking News in Gujarati, Gujarat Samachar, ગુજરાતી સમાચાર, Gujarati News Live, Gujarati News Channel, Gujarati News Today, National Gujarati News, International Gujarati News, Sports Gujarati News, Exclusive Gujarati News, Coronavirus Gujarati News, Entertainment Gujarati News, Business Gujarati News, Technology Gujarati News, Automobile Gujarati News, Elections 2022 Gujarati News, Viral Social News in Gujarati, Indian Politics News in Gujarati, Gujarati News Headlines, World News In Gujarati, Cricket News In Gujarati

साबरमती रिवरफ्रंट डेवलपमेंट कॉरपोरेशन रिवरफ्रंट के फेज 2 के लिए लेगा 350 करोड़ का कर्ज

| Updated: April 6, 2022 15:19

साबरमती रिवरफ्रंट डेवलपमेंट कॉरपोरेशन रिवरफ्रंट के फेज 2 के काम के लिए गुजरात स्टेट फाइनेंस सर्विस से 350 करोड़ रुपये का कर्ज लेगा। रिवरफ्रंट कॉरपोरेशन ऋण प्राप्त करने के लिए एएमसी को एक माध्यम के रूप में उपयोग करेगा। ऋण की गारंटी एएमसी द्वारा दी जाएगी। रिवरफ्रंट कंपनी अब तक निगम से 2,094.27 करोड़ रुपये उधार ले चुकी है। रिवरफ्रंट प्रोजेक्ट की स्थापना शहर के नागरिकों को मनोरंजक सुविधाएं प्रदान करने के लिए की गई थी।

साबरमती रिवरफ्रंट डेवलपमेंट कॉर्पोरेशन लिमिटेड की स्थापना 1997 में एक स्वायत्त कंपनी के रूप में हुई थी। पिछले 20 वर्षों से साबरमती रिवरफ्रंट का काम बहुत धीमी गति से चल रहा है जो अभी तक पूरा नहीं हुआ है। चूंकि एसआरएफडीसीएल के पास वर्तमान में पर्याप्त राजस्व नहीं है, इसलिए एएमसी परियोजना के रखरखाव के लिए प्रति माह 10 करोड़ रुपये प्रदान करेगी।

रिवरफ्रंट के फेज-2 के विकास के लिए 1200 करोड़ रुपये का अनुमानित बजट

एक तरफ जहां विभिन्न सेक्टरों के ठेकेदारों के काम का 800 करोड़ रुपये बकाया है तो दूसरी तरफ नगर निगम के पास पैसे की कमी है. विपक्षी दलों ने कहा है कि अहमदाबाद के नागरिकों को बुनियादी सुविधाओं के लिए नगर निगम के पास पैसा नहीं है, जबकि मनोरंजक परियोजनाएं ऐसी रिवरफ्रंट परियोजनाओं के लिए प्रति माह 10 करोड़ रुपये प्रदान करेंगी।

रिवरफ्रंट के फेज-2 के विकास के लिए अनुमानित 1200 करोड़ रुपये आवंटित किए गए हैं।

इसके लिए नगर निगम ने जीएसएफएस से 350 करोड़ रुपये का कर्ज लेने का प्रस्ताव किया है। ऋण नगर निगम द्वारा लिया जाएगा। रिवरफ्रंट परियोजना के पास पर्याप्त राजस्व नहीं होने के कारण इस ऋण का भार नगर निगम पर पड़ेगा। अब तक नगर निगम ने परियोजना लागत और निर्वाह लागत सहित कुल 2,533.79 करोड़ रुपये का भुगतान किया है। जिसके चलते कांग्रेस ने इस कर्ज को लेने के प्रस्ताव का विरोध किया है।

भारतीय वायु सेना के सेवानिवृत्त सार्जेंट को आरटीआई में मिला जवाब, सवाल ना पूछें

Your email address will not be published. Required fields are marked *