एआईएमआईएम की सूरत कार्यकारिणी अचानक की गई भंग, जानें क्यों?

| Updated: May 24, 2022 4:53 pm

ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) के गुजरात अध्यक्ष साबिर काबलीवाला ने सूरत में पार्टी की सभी इकाइयों को अचानक भंग कर दिया है।

पार्टी नेता असदुद्दीन ओवैसी (Asaduddin Owaisi) द्वारा दक्षिण गुजरात में सूरत के लिंबायत के पास एक जनसभा को संबोधित करने के तुरंत बाद यह निर्णय लिया गया।

राज्य इकाई के अध्यक्ष ने अपने दौरे के 24 घंटे के भीतर सूरत शहर और जिला समितियों, महिला समितियों और युवा शाखा को भंग कर दिया। एआईएमआईएम (AIMIM) के सूरत शहर कमेटी के अध्यक्ष वसीम कुरैशी के मुताबिक प्रदेश इकाई अध्यक्ष ने पत्र में समितियों को भंग करने का कोई कारण नहीं बताया है। उन्होंने यह भी कहा कि वह इस मामले में कानूनी सलाह ले रहे हैं, जिसके बाद वह अपना पक्ष रखेंगे।

वीडियो क्लिप में सूरत यूथ विंग के उपाध्यक्ष सैय्यद मजहर सैय्यद कमर का दावा है कि सूरत शहर के अध्यक्ष वसीम कुरैशी और राज्य इकाई के पदाधिकारी खुर्शीद अहमद ने पिछले हफ्ते उनसे संपर्क किया और और उनसे पार्टी को 3.50 लाख रुपये डोनेट करने के लिए कहा। जिसके बदले में पार्टी के राष्ट्रीय नेता ओवैसी ज़म्पबाजार में रुकेंगे, जहां वह नेता का अभिवादन कर सकेंगे। उसने कुरैशी और अहमद को 2.50 लाख रुपये नकद देने का दावा किया है।

मजहर का दावा है कि उनसे वादा किया गया था कि यदि राष्ट्रीय नेता का मार्ग बदला गया तो वह ज़म्पबाजार क्षेत्र में दो स्थानों पर रुकेंगे और दोनों में ओवैसी का अभिवादन करेंगे। उनके अनुसार इससे उन्हें लोकप्रियता हासिल करने में मदद मिलेगी।

पार्टी सूत्रों ने यह भी कहा कि निस्संदेह लिंबायत में भारी संख्या में भीड़ थी, जब ओवैसी का काफिला कार्यक्रम स्थल के पास पहुंचा, तो एक छोटे समूह ने काले झंडे दिखाए, जिसे पार्टी के राज्य और राष्ट्रीय नेताओं ने गंभीरता से लिया।

यह भी पढ़ें: एआईएमआईएम गुजरात के उपाध्यक्ष ने राज्य प्रमुख के साथ मतभेदों के चलते दिया इस्तीफा

Read Also : गुजरात भाजपा चुनाव के पहले चंदा से 200 करोड़ करेगी इकठ्ठा


Your email address will not be published.