गुजरात के मुख्य सचिव पंकज कुमार का व्यक्तित्व और अन्य रोचक बातें

| Updated: December 15, 2021 4:11 pm

दक्ष अधिकारी और शानदार मुख्य सचिव हैं पंकज कुमार

आज बात करते हैं पीके की। हमारे मुख्य सचिव। पंकज कुमार के सीएस के रूप में नियुक्त होने से पहले बहुत सारी अजीबोगरीब बातें और अटकलें चल रही थीं। जूनियर अधिकारियों को भी उनकी कार्यशैली, नेतृत्व और टीम भावना पर संदेह करते हुए देख और सुनकर हम वास्तव में खुश थे।

हमने उन्हें 100 दिन का समय देने का फैसला किया। यह किसी व्यक्ति का आकलन या मूल्यांकन करने का सबसे सभ्य तरीका है। और वह परीक्षा में पूरी तरह खरे उतरे। पंकज कुमार को बधाई। आप सिर्फ काम के ही नहीं हैं, बल्कि बेहतरीन काम करने वाले हैं।

सुशासन वही है, जो पंकज कुमार ने दिखाया है। बहुत ही पेशेवर रूप से और बिना किसी पक्षपात के। उनकी निष्पक्षता, स्पष्टता और मृदुभाषीपन पहले से ही उनकी विशेषता रही है। पंकज कुमार सभी संबद्ध पक्षों को पारदर्शिता महसूस कराने और समझाने के लिए अतिरिक्त प्रयास कर रहे हैं। नन्ही चिड़िया हमें बताती है कि लंबे समय के बाद अब उनके अधीनस्थों को भी लगता है कि मुख्य सचिव के कड़क या सख्त रवैया वाला होने की बात स्वार्थवश की जा रही थी।

IAS पंकज कुमार

अधीनस्थ अधिकारी सर्वसम्मति से कहते हैं कि अब उन्हें अपना काम संभालने, प्रेजेंटेशन देने आदि के लिए पर्याप्त समय दिया जाता है। यहां तक कि पंकज कुमार भी अपने सामान्य स्वभाव से अधिक मिलनसार होने की कोशिश करते हैं, ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि अधिकारी उनके साथ सहज हों। और सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि वह छोटी-छोटी बातों या गपशप में नहीं पड़ते।

महत्वपूर्ण पद पर अच्छा आदमी

पिछले हफ्ते हम आपको सबसे पहले यह बताने वाले थे कि रिटायरमेंट के बाद मुंबई या दिल्ली में बढ़िया पोस्टिंग पाने की बात करने के बावजूद अनिल मुकीम महाशय को जीईआरसी की अध्यक्षता ही मिली।

जबकि यह पद पिछले कुछ महीनों से खाली पड़ा था। इतना ही नहीं, कई वर्षों से इसे लेकर बहुत प्रगति भी नहीं हुई थी, क्योंकि अंतिम पदाधिकारी, जो न तो अखिल भारतीय सेवाओं से थे और न ही न्यायपालिका, अपने निर्णय के बारे में बिल्कुल स्पष्ट थे। यह कि वह कोई निर्णय नहीं लेंगे।

अनिल मुकीम

सबसे पहले, कई दावों के विपरीत और दुख की बात है कि ये वे लोग हैं जिनसे अनिल मुकीम ने सबसे अधिक जुड़ाव रखा। चाहे वह पत्रकार हों या अधिकारी, जो अब उनकी पोस्टिंग के बारे में अफवाह फैला रहे हैं। आपको बता दें कि जीईआरसी एक बहुत ही महत्वपूर्ण संस्थान है, क्योंकि यह वह जगह है जहां बिजली से संबंधित कोई भी मुद्दा सामने आने पर संपर्क किया जाता है। जैसा कि हम सभी जानते हैं, उनमें से बहुत सारे मुद्दे बिजली उत्पादकों, विक्रेताओं, खरीदारों, ट्रांसमीटरों, उपभोक्ताओं के साथ वितरकों और राज्य के स्वामित्व वाली गुजरात ऊर्जा विकास निगम और उसकी सहायक कंपनियों के बीच के हैं।

आशा की जाती है कि अनिल मुकीम अब पीके मिश्रा की अध्यक्षता में किए गए त्वरित और विवेकपूर्ण निर्णय को सिर-आंखों पर लेंगे। और हां, भूले नहीं कि मिश्र आज भी पीएमओ के सबसे महत्वपूर्ण अधिकारी हैं।

 दिल्ली में गुजरात कैडर के अधिकारियों को लेकर अफवाहें

 कुछ लोग अब भी यह मानना चाहते हैं कि दिल्ली दरअसल  गुजरात कैडर के अधिकारियों से ही भरी पड़ी है। हां, लेकिन धीरे-धीरे और लगातार यह संख्या कम हो रही है। 1987 बैच के आईएएस राज कुमार की गुजरात वापसी और पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय में सचिव (एमओईएफसीसी) आरपी गुप्ता वर्ष के अंत से पहले सेवानिवृत्त हो रहे हैं। उनके साथ कम से कम दो और मध्य स्तर के अधिकारी वापस गुजरात आ रहे हैं। इस तरह संख्या घट रही है।

IAS राज कुमार

दो उत्कृष्ट अधिकारी जो जल्द ही वापस नहीं आएंगे, हम आपको बता सकते हैं कि वे भरत लाल और डी थारा हैं। जहां भरत लाल जल जीवन मिशन में उत्कृष्ट कार्य कर रहे हैं, वहीं डी थारा सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट से जुड़े हैं। हम हाल ही में उत्तर प्रदेश गए थे और समाजवादी पार्टी की प्रशंसा करने वाले लोग भी मिले थे, लेकिन अधिकांश लोग जल जीवन मिशन से खुश थे। इस समय बहुत महत्वपूर्ण पदों पर मात्र ये दो अधिकारी हैं।

आर.पी गुप्ता

हालांकि अन्य राज्यों के अधिकारी यह प्रचार करना पसंद करते हैं कि गुजरात के अधिकारियों पर असाधारण ध्यान दिया जा रहा है। वह सिर्फ एक मिथक है। हम वास्तव में आपको बता सकते हैं कि कम से कम आधा दर्जन गुजरात कैडर के अधिकारियों को गुजरात सरकार द्वारा प्रतिनियुक्ति के लिए अनापत्ति प्रमाण पत्र दिया गया है, लेकिन उन्हें अभी तक भारत सरकार से कुछ सुनने को नहीं मिला है।

डी थारा

नशा मजाक में होती तो…

पार्टी लाइनों से परे जाने वाले राजनेताओं में मित्र और शत्रु  होने की अदभुत क्षमता होती है। यानी एक ही समय में दोस्त और दुश्मन। गुजरात कांग्रेस के वरिष्ठ नेता भरतसिंह सोलंकी ने एक शाम के कार्यक्रम में टिप्पणी की, उनके मुंह में जीभ फंस रही थी, कि वहां चुस्की के साथ अच्छा खाना था, लेकिन साथ देने वाला कोई नहीं था। इसके एक दिन बाद राज्य मंत्री राजेंद्र त्रिवेदी इस बारे में पूछने पर मुस्कुराए। कहा, “मुझे पता नहीं भरतसिंह पीते हैं या नहीं।” जब और साफ कहने को कहा गया तो त्रिवेदी ने ताना कसा, “मुझे यह भी नहीं पता कि उनके पास शराब का परमिट है या नहीं।” जब सोलंकी के इस ताने पर टिप्पणी करने के लिए कहा गया कि राज्य में शराब स्वतंत्र रूप से उपलब्ध है, तो त्रिवेदी ने कहा, “गुजरात नशाबंदी कानून को मजबूती से लागू करना जारी रखेगा।”

जैसे ही भरतसिंह सोमवार की शाम के कार्यक्रम से हंसते हुए चले गए, त्रिवेदी गांधीनगर में मंगलवार की प्रेस कॉन्फ्रेंस से बाहर निकलते ही खुलकर मुसकरा रहे थे। दरअसल वे दोनों ही गुजरात में नशाबंदी कानून की वास्तविकता जानते हैं, जहां आप स्वास्थ्य परमिट के साथ कम मात्रा में पी सकते हैं! तो बेफिक्र रहें और मजे करें। चीयर्स गुज्जूभाई!

Post a Comments

1 Comment

  1. Shatrughan

    बहुत सुंदर सटीक और छटादार आलेख। इसे कहावत की भाषा में गागर में सागर भरना कहते हैं।

Your email address will not be published.