वेनस्ड़े वाइब्स

| Updated: December 22, 2021 2:45 pm

बेहतर नौकरशाही के लिए बदलाव ही एकमात्र विकल्प

हम चकित थे। शब्द था- नौकरशाही। जी हां, ब्यूरोक्रसी को हिंदी में नौकरशाही ही कहते हैं। हमारा हिंदी ज्ञान बॉलीवुड और संसद की अंतहीन बहसों तक ही सीमित है। दुर्भाग्य से ये दोनों ही हमारी हिंदी को समृद्ध नहीं करती है।

तो आपको गुजरात सरकार के फैसले के बारे में बता दें। वे यह सुनिश्चित करेंगे कि किसी भी पद पर कोई नौकरशाह चार साल से अधिक समय तक न रहे। अच्छा हो कि उस नौकरशाह को भी बदल दिया जाना चाहिए, जो चार साल से अधिक समय से एक ही जिला मुख्यालय में है। सरकार का मानना है कि यह सुशासन, पारदर्शिता और सुधारों के लिए अच्छा रहेगा।

शाहमीना हुसैन

सबसे पहला नाम जो दिमाग में आता है, वह है शाहमीना हुसैन का। हम वास्तव में 1997 कैडर के इस अधिकारी को पसंद करते हैं, जो नियमानुसार काम करने के लिए जानी जाती है। लेकिन डंक मारने वाले महाशय, दुबले-पतले से इस नौजवान को मिस्टर नटखट मंगनिया के नाम से भी जाना जाता है, जो सचिवालय में नेटवर्क चलाते हैं। निश्चित रूप से, किसी और को छिपाते हुए। हाल ही में हमें पता चला है कि मुख्यमंत्री को गुजरात ऊर्जा विकास निगम लिमिटेड (जीयूवीएनएल) में तैनात सुश्री हुसैन के बारे में बताया गया है। यह कि वह वडोदरा में चार साल से अधिक समय से हैं। वह वर्तमान में प्रबंध निदेशक हैं और इस पद से पहले भी वह वडोदरा में रही हैं। इस तरह वडोदरा में उनका कार्यकाल करीब 8 साल का रहा है। लेकिन मुख्यमंत्री ने आंखें मूंद ली हैं। खैर, शाहमीना और वडोदरा एक-दूसरे के पूरक हैं। लेकिन देखते हैं कि सीएम अब इस बारे में क्या सोचते हैं।

धर्मगुरु बोले तो गॉडफादर

इसकी जरूरत सबको पड़ती है। हमने भी इसे महसूस किया है। सिर पर एक आका यानी गॉडफादर। हमारे पास एक महान पिता हैं, लेकिन गॉडफादर से वंचित रह गए हैं। दरअसल हम धर्मगुरु या गॉडमैन में विश्वास नहीं करते हैं, लेकिन कई ऐसे हैं जिनके लिए गॉडमैन वास्तव में गॉडफादर या यहां तक कि वास्तविक पिता से भी कहीं अधिक मायने रखते हैं। उत्कंठेश्वर मंदिर के लालगिरि बापू एक ऐसे ही शख्स हैं, जो गॉडफादर भी हैं।

हम सभी हिंदू संतों के सम्मान में नमन करते हैं, बल्कि सभी इन दिनों भगवा वस्त्र पहने हुए हैं। ऐसा ही कुछ नौकरशाह भी कर रहे हैं। फिर बता दें कि हमें नौकरशाह शब्द पसंद है। तो ऐसे ग्रुप का नेतृत्व एक सज्जन आईएएस अधिकारी करते हैं, जो हिंदू धर्म और उससे भी अधिक महत्वपूर्ण हिंदुत्व की कसम खाते हैं। वह आर्ट ऑफ लिविंग के रविशंकर से शुरू कर कैलासा में रहने वाले सभी लोगों से लेकर लालगिरि बापू तक से जुड़े हैं। वह सफेद, नारंगी, केसरिया और यहां तक कि मोर के रंगों में भी किसी को देख उनके सामने अपने आप झुक जाते हैं।

इसलिए जब लालगिरि स्वामीजी हाल ही में सचिवालय गए, तो किसी नश्वर और पापी कर्मचारी ने उन्हें नहीं पहचाना और उन्हें अपने साहेब से मिलने से रोक दिया। लालगिरि स्वामी एक अच्छे नेक व्यक्ति हैं, लेकिन वे दिव्य रूप से इस आईएएस शिष्य से मिलना चाह रहे थे। इसलिए उन्होंने आध्यात्मिक रूप से अनपढ़ कर्मचारी के लिए एक एल्बम निकाला। उसमें कर्मचारी अपने साहेब को स्वामीजी को दंडवत प्रणाम करते देख बहुत खुश हुआ। स्वामी जी भी मूड में आ गए और अपने एल्बम के पन्ने पलटने लगे। हम स्वामी जी के प्रति श्रद्धा की तस्वीरों से अभी अधिकारियों को शर्मिंदा नहीं करना चाहते, लेकिन हम सिर्फ बाबुओं को बताना चाहते हैं। थोड़ी-सी श्रद्धा पब्लिक पर भी रखने का। आप को स्वामीजी की कसम। भले हमारी जनता में से अधिकांश के पास सफेद, केसरिया, हरा, नीला, लाल या कोई और ही रंग क्यों न हो।

जलवायु परिवर्तन जैसे महत्वपूर्ण विभाग की तो सोचो

अब बात माननीय प्रधानमंत्री जी की। हमारे मोदी जी वास्तव में जलवायु परिवर्तन के खतरनाक प्रभावों को कम करने की दिशा में बहुत मेहनत कर रहे हैं। याद रखें, उन्होंने एक किताब भी लिखी है, सुविधाजनक कार्रवाई: परिवर्तन के लिए निरंतरता (Convenient Action-Continuity For Change)। यह किताब जलवायु परिवर्तन की सार्वभौमिक समस्या के बारे में उनकी दृष्टि को बताती है। उन पारजित लोगों के लिए जो गुजरात के मुख्यमंत्री के रूप में प्रदर्शित महान कार्य और दृष्टि के बारे में विश्वास नहीं करना चाहते हैं, आइए आपको बता दें कि गुजरात पहला राज्य था जहां जलवायु परिवर्तन विभाग था। हमें इस बात की सराहना करनी चाहिए कि एक चिंता के रूप में जलवायु परिवर्तन ने कांग्रेसियों के दिमाग में प्रवेश नहीं किया, जो कि इटालियंस का लेबल लगाने के आदी हैं।

वैसे भी जलवायु परिवर्तन के खतरे अब हकीकत में बदल रहे हैं। अब समय आ गया है कि गुजरात सरकार इस विभाग को संभालने के लिए एक पूर्णकालिक सचिव की नियुक्ति करे। या तो एक पूर्णकालिक आईएएस अधिकारी के साथ पूर्णकालिक विभाग बनाया जाना चाहिए, जो जीईडीए (गुजरात ऊर्जा विकास एजेंसी) के तहत काम करे। या अगर सरकार 1991 के कैडर के एसजे हैदर की मौजूदा व्यवस्था को जारी रखने का फैसला करती है तो एक अतिरिक्त प्रभार धारण करने के लिए जीईडीए को ऊर्जा विभाग के अधीन रखा जाना चाहिए। हमें जलवायु परिवर्तन के मुद्दों पर तेजी से काम करने की जरूरत है, क्योंकि जो जल्द ही होता दिख रहा था वह अब हकीकत बन रहा है। पेय, बौद्धिक चर्चा के बाद जलवायु परिवर्तन की चिंताएं अब कुलीन नहीं रह गई हैं। यह नितांत आवश्यकता बन गई है।

बेचारा बाबूभाई

एक वो जमाना था, जब पूरा अहमदाबाद बाबूभाई के नाम से डरता था। और, एक ये जमाना है कि कोई बाबूभाई की आवाज तक नहीं पहचानता।

बॉलीवुड शैली में पढ़ें। लेकिन क्या है न, कि कभी-कभी जिंदगी बॉलीवुड से भी ज्यादा अजनबी हो जाती है।

बाबूभाई जमनादास पटेल 90 के दशक में बीजेपी के वरिष्ठ नेता थे और तब उन्हें बस बीजेपी के नाम से जाना जाता था। यह है उनके शक्तिशाली व्यक्तित्व का शक्तिशाली संक्षिप्त रूप। विशाल भूमि पर बैठे, वह ऐसे व्यक्ति थे जिन्होंने कई महत्वपूर्ण निर्णय लिए। शहर में ऐसे कई बिल्डर और डिवेलपर होंगे, जिन्होंने उनसे अहसान लिया होगा। पर ये जमाना बड़ा बेशरम है। एहसान कभी किसी को याद नहीं रहता। जब वे आपको कमजोर और डरपोक देखते हैं तो वे आपको बाहर निकाल देते हैं। जमाना ने बाबूभाई को भी फूंक दिया।

जिस पार्टी को उन्होंने अपना पूरा जीवन दे दिया। भले ही उन्होंने अपना साम्राज्य खड़ा करते हुए उन्हें महत्वपूर्ण लोगों की सूची से हटा दिया हो, लेकिन हम कम से कम चार आईएएस अधिकारियों को जानते हैं जिन्होंने बाबूभाई के अच्छे दिनों में बहुत लाभ उठाया है, लेकिन अब वे उनके अस्तित्व को स्वीकार करने से इनकार करते हैं, उनकी मदद करना तक भूल जाते हैं। यही तो बाबूभाई की दुखद दास्तान है।

अहमदाबाद नगर निगम द्वारा बीयू की अनुमति के बिना भवनों के खिलाफ कार्रवाई शुरू करने के मद्देनजर; बाबू जमना अस्तबल की कुछ इमारतों में भी नियमों का उल्लंघन पाया गया है। ये बाबू जमनाभा के दिनों में बनी इमारतें हैं। जैसे ही एएमसी ने इमारतों को सील किया, दुकान मालिकों ने बिल्डर-सह-राजनेता से उनकी मदद करने का अनुरोध किया। अब कई लोग कहते हैं कि बाबूभाई का समय समाप्त हो गया है। लेकिन रुकिए, किसी राजनेता के लिए ऐसा कभी मत लिखिए। याद कीजिए कि क्या हुआ था जब पीवी नरसिम्हा राव ने अपना सामान बांध लिया था और दक्षिण भारत वापस जाने की तैयारी कर रहे थे। अचानक राजीव गांधी की हत्या के बाद उन्हें प्रधानमंत्री बना दिया गया था।  इसलिए उम्मीद का दामन कभी न छोड़ें। बेचारा बाबूभाई फिर से बीजेपी बन सकते हैं।

Your email address will not be published.