वेनसड़े वाइब्ज़

| Updated: May 18, 2022 4:04 pm

सब सितारों का खेला है

थोड़ी-सी किस्मत बहुत कुछ बदल सकती है। ऐसा लगता है, यह वरिष्ठ कैबिनेट मंत्री इस पर पूरा भरोसा करते हैं। ब्राह्मण के नाते उनका झुकाव स्वाभाविक रूप से ज्योतिष की ओर है। लेकिन उनका निजी हित टीम के सदस्यों में भी निहित है। जैसा कि हम सुनते हैं, उनका रोजाना कुछ समय कुंडली पर कोर टीम के साथ मंत्रणा में चला जाता है। दरअसल, उनके एक विश्वासपात्र को विभिन्न राशि के रत्नों की एक बड़ी अंगूठी पहने देखा गया था। उनसे अगर नई हलचल के बारे में पूछें, तो वह मिलनसार अधिकारी जवाब देते हैं: “सब सितारों का खेला है। सर तो हमारा चेहरा भी पढ़ सकते हैं। मंत्री बनने से पहले से ही उनकी ज्योतिष में रुचि थी।”

अभी तक पॉल ऑक्टोपस अपनी सही भविष्यवाणियों के लिए जाने जाते थे। ट्रम्प ने ऊंचाइयां पाई, कौन सोचेगा … ओबामा। हो सकता है कि इस मंत्री का सितारों के साथ संगत कहीं उनकी पार्टी को जीत दिला दे। देखिए, आगे-आगे होता है क्या।


रौब मंत्रीजी के पीए का

अहमदाबाद के दो थानों में आजकल एक अनकहा नियम चल रहा है। जब मंत्रीजी का पीए आएं, तो गरमा गरम चाय देनी होगी। ऐसा लगता है कि मातहत को उनसे अधिक विशेषाधिकार प्राप्त हैं, जिसके वह खुद हकदार हैं। अपने पीए के दबदबे का समर्थन करने के लिए उच्च पदस्थ मंत्री की उपस्थिति की अब आवश्यकता नहीं है। दबी जुबान में छोटे अधिकारी कहते हैं, “हमें मंत्री जी का आना अच्छा लगता है, लेकिन उनके पीए की सनक हमें पागल बना रही है। बड़े अधिकारियों के समर्थन से भी उनका दिमाग चढ़ा हुआ है।” जैसा वे कहते हैं, यह पीए के लिए अच्छे दिन होना चाहिए। हमारा सुझाव: जितना हो सके आनंद लें। माना जाता है कि उसी मंत्री ने अपने पिछले पीए के तबादले में भी पर्दे के पीछे खेल किया था।


कमी खलेगी बीपी श्रीवास्तव की!

आईआरएस अधिकारी बीपी श्रीवास्तव के गांधीनगर से अहमदाबाद स्थानांतरण से पदाधिकारियों में मायूसी छा गई है। गांधीनगर आईटी विभाग के उनके सहकर्मियों ने कहा, “स्थानांतरण आदेश के बाद भी सर ने कर्तव्यों के वितरण में दो बार नहीं सोचा। वह सभी के साथ सम्मान के साथ पेश आते हैं और मुद्दों को तुरंत सुलझाने में हमारी मदद करते हैं। हमने उनके साथ एक साल से अधिक समय तक काम किया। वह हमें हमेशा याद रहेंगे।” उनके साथ काम करने वाले सभी पचास कर्मी उनके नेतृत्व कौशल की सराहना करते हैं। वह कभी भी अपना आपा नहीं खोने के लिए मशहूर रहे हैं। फिर उनका तबादला क्यों किया गया? इस पर सोचना दरअसल कीचड़ से खेलना होगा, इसलिए कोई उधर दिमाग नहीं लगाना चाहता।

शायद एक नियमित बदलाव या शायद कुछ और, कुल मिलाकर आयकर उपायुक्त (डीसीआईटी) जल्द ही अहमदाबाद के आयकर भवन में होंगे। हम मुख्यालय में अच्छा काम देखने के लिए इंतजार नहीं कर सकते!!


लक्ष्मी मां की कृपा बनी रहे….

गुजरात में हाल ही में कई आईपीएस अधिकारियों का तबादला हुआ है। अहमदाबाद के अधिकांश क्षेत्र और एजेंसियां अब एक नए अधिकारी के अधीन हैं। ऐसा ही एक डीएसपी भी लोगों का ध्यान खींच रहा है। न्यायसंगत कार्यों के लिए उतना नहीं … जितना समृद्धि सुनिश्चित करने के लिए अपनी “व्यवस्थाओं” से। किसके लिए? खैर, हम इसका फैसला आपपर ही छोड़ देते हैं।

अब अफवाह यह भी है कि इस अधिकारी ने “कैशियर” के पद के लिए “उपयुक्त उम्मीदवार” को खारिज करने के लिए एक साक्षात्कार का इंतजाम किया। उनके अधिकार क्षेत्र के सभी पीएस से एक सूची मांगी गई थी और “स्टाफ” के इस पद के लिए आवेदन मांगे गए थे। कहने की जरूरत नहीं है कि ज्यादातर पीएसआई, डीसीपी और डीएसपी ने बाजी मार ली। अब लक्ष्मी मां की कृपा जिस पर, उसी का बेरा होगा पार…। बहरहाल, एक छोटा सवाल- क्या स्थानीय करों में वृद्धि होगी क्योंकि एक अतिरिक्त अधिकारी को भुगतान करना पड़ता है?

Your email address will not be published.