कोविड पर डब्ल्यूएचओ ने की फाइजर की दवा की सिफारिश। जानिए Paxlovid के बारे में 5 जरूरी बातें

| Updated: April 23, 2022 9:54 am

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने अस्पताल में भर्ती होने के उच्चतम जोखिम वाले कोरोनावायरस रोग (कोविड -19) के हल्के और मध्यम रूपों वाले रोगियों में फाइजर की एंटीवायरल गोली पैक्सलोविड के उपयोग की “जोर देते हुए सिफारिश” की है। हालांकि, संयुक्त राष्ट्र की स्वास्थ्य एजेंसी ने निम्न और मध्यम आय वाले देशों में उपलब्धता और मूल्य पारदर्शिता की कमी की चुनौतियों पर प्रकाश भी डाला है। चिंता जताते हुए कहा कि ऐसे देशों को उपचार तक पहुंचने के लिए फिर से “पीछे धकेल दिया जा सकता है।”

फाइजर की एंटीवायरल गोली के बारे में 5 ऐसी बातें, जो आपके लिए जानना जरूरी है:

• पैक्सलोविड निर्माट्रेलवीर और रटनवीर गोलियों का एक संयोजन है। इसे सीधे मुंह के जरिये लेने को कहा जाता है।

• डब्ल्यूएचओ की सिफारिश दो आकस्मिक परीक्षणों के आंकड़ों पर आधारित है। इसमें दिखाया गया है कि उच्च जोखिम वाले समूह में गोली के सेवन से अस्पताल में भर्ती होने का जोखिम 85% तक कम हो जाता है।

• संयुक्त राष्ट्र की एजेंसी ने अस्पताल में भर्ती होने के कम जोखिम वाले कोविड रोगियों में इसका उपयोग नहीं करने को कहा है। उसके मुताबिक, ऐसे रोगियों में कुछ खास लाभ नहीं पाया गया।

• फाइजर द्वारा बेची जाने वाली ब्रांड नाम की दवा को डब्ल्यूएचओ की पूर्व योग्यता सूची में शामिल किया जाएगा, स्वास्थ्य एजेंसी ने कहा कि जेनेरिक उत्पाद अभी तक गुणवत्ता-सुनिश्चित स्रोतों से उपलब्ध नहीं हैं। जेनेरिक उत्पाद ब्रांड नाम की दवाओं की कॉपी हैं और बहुत कम कीमत पर उपलब्ध हैं। इससे निम्न और मध्यम आय वाले देशों में पहुंच आसान हो जाती है।

• डब्ल्यूएचओ के अनुसार, फाइजर और मेडिसिन्स पेटेंट पूल के बीच एक लाइसेंसिंग समझौता उन देशों की संख्या को सीमित करता है, जो दवा के जेनेरिक उत्पादन से लाभ उठा सकते हैं।

स्वास्थ्य एजेंसी ने कहा, “इसलिए डब्ल्यूएचओ दृढ़ता से अनुशंसा करता है कि फाइजर अपने मूल्य निर्धारण और सौदों को और अधिक पारदर्शी बनाए। यह मेडिसिन पेटेंट पूल के साथ अपने लाइसेंस के भौगोलिक दायरे को बढ़ाए, ताकि अधिक सामान्य निर्माता दवा का उत्पादन शुरू कर सकें और इसे सस्ती कीमतों पर तेजी से उपलब्ध करा सकें।” 

Your email address will not be published.