आखिर भारत में क्यों नहीं दिखता सामाजिक चेतना का वजूद? - Vibes Of India

Gujarat News, Gujarati News, Latest Gujarati News, Gujarat Breaking News, Gujarat Samachar.

Latest Gujarati News, Breaking News in Gujarati, Gujarat Samachar, ગુજરાતી સમાચાર, Gujarati News Live, Gujarati News Channel, Gujarati News Today, National Gujarati News, International Gujarati News, Sports Gujarati News, Exclusive Gujarati News, Coronavirus Gujarati News, Entertainment Gujarati News, Business Gujarati News, Technology Gujarati News, Automobile Gujarati News, Elections 2022 Gujarati News, Viral Social News in Gujarati, Indian Politics News in Gujarati, Gujarati News Headlines, World News In Gujarati, Cricket News In Gujarati

आखिर भारत में क्यों नहीं दिखता सामाजिक चेतना का वजूद?

| Updated: September 10, 2021 18:16

विचारशीलता तब होती है, जब आप किसी बीमार पड़ोसी के घर खाना ले जाते हैं। विनम्रता तब होती है, जब आप कार से बाहर निकलने वाले किसी व्यक्ति के लिए दरवाजा खोलते हैं। सामाजिक चेतना, जिस पर पिछले सप्ताह प्रकाशित एक वैश्विक अध्ययन के अनुसार भारत का स्कोर सबसे कम है, एक बारीक बात है। विनम्रता और विचारशीलता की तरह  ही यह ईमानदारी और विनम्रता जैसे वैयक्तिक लक्षणों से जुड़ी है। लेकिन इसमें समय या प्रयास या इनाम की अपेक्षा में एक सचेत निवेश शामिल नहीं है, यहां तक कि 'धन्यवाद' के रूप में भी। शोधकर्ताओं द्वारा दी गई सामाजिक चेतना की परिभाषा है- 'दूसरों को प्रभावित करने वाले अपने कार्यों और निर्णयों को लेकर जागरूक होना।'

सामाजिक चेतना एक नई अवधारणा है और अकादमिक पत्रिकाओं में यह कैसे काम करता है, इसके बहुत अधिक उदाहरण नहीं हैं। मनोवैज्ञानिक जिस मानक उदाहरण का उपयोग करते हैं, वह यह कि बिस्कुट की प्लेट से अंतिम मूंगफली वाली बिस्कुट नहीं ले  रहा है, क्योंकि इससे अन्य लोगों के लिए विकल्प सीमित हो जाएंगे। सामाजिक रूप से एक जागरूक व्यक्ति सचेत रूप से प्लेट में पड़े बिस्कुटों में से एक चुनता है।बिस्कुट की पसंद को सीमित करना यहां परोक्ष रूप से स्वतंत्रता को सीमित करना है। क्या यह आपके सिर के ऊपर से निकल जा रहा है? यह ऑस्ट्रेलिया, यूरोप और अमेरिका में मास्क पहनने के खिलाफ सड़क पर सुव्यवस्थित विरोध की तरह है, जिसे ज्यादातर भारतीयों को समझने में मुश्किल होती है।

जब वीओआइ ने कुछ अहमदाबाद वासियों से इस विषय पर उनके विचार जाने, तो हमें कुछ दिलचस्प प्रतिक्रियाएं मिलीं। सेवानिवृत्त आईएएस अधिकारी वरुण मैरा ने इसे गूगल पर देखा और फिर हमें यह कहते हुए संदेश भेजा, “यह पहली बार है जब मैंने इस अवधारणा के बारे में सुना है। यह कोई सद्गुण नहीं है, जो परिवार या स्कूल में बड़ों या शिक्षकों द्वारा सिखाया जाता है।”

Varun Maira
Retired IAS Officer

प्रोसीडिंग्स ऑफ द नेशनल एकेडमी ऑफ साइंसेज जर्नल द्वारा प्रकाशित सर्वेक्षण में सामाजिक चेतना के मामले में सबसे अधिक अंक पाने वाला देश है। यह एक ऐसा देश भी है, जो अपने नागरिकों की स्वतंत्रता और पसंद की स्वतंत्रता को अपने संविधान में सबसे स्पष्ट रूप से शामिल करता है। जापानी संविधान सरकार को लॉकडाउन अनिवार्य करने की अनुमति नहीं देता है। वहां की सरकार सिर्फ लोगों से घर में रहने का अनुरोध कर सकती है और ऐसा नहीं करने पर लोगों को सजा नहीं दे सकती। जापानी स्वेच्छा से नियमों का पालन कर रहे हैं, शायद सामाजिक जागरूकता के उच्च स्तर के कारण।

सीईपीटी विश्वविद्यालय, अहमदाबाद में प्रोफेसर मधु भारती का मानना है कि सामाजिक जागरूकता सर्वेक्षण में भारत की निम्न रैंकिंग का संबंध संसाधनों और अवसरों की कमी से है। भारती ने कहा, “सर्वेक्षण ने शायद भारतीय आबादी को एक समरूप समूह के रूप में देखा। एक औसत भारतीय के पास तो बेहद कम पैसा, खाना और मकान है। लोग घर पहुंचने के लिए ट्रेनों और बसों में धक्के खाते हैं। यह योग्यतम का जीवित रह जाना है। लेकिन अगर आप अलग-अलग हैं, तो परिणाम अलग हो सकते हैं। उच्च आय वाले भारतीय भी सामाजिक रूप से अधिक जागरूक हो सकते हैं।”

Madhu Bharti,
Professor at CEPT University

क्या सामाजिक चेतना काम आने लायक एक गुण है? ईपीसी टेक्स-टेक्नक्स प्राइवेट लिमिटेड के निदेशक 67 वर्षीय कमल के गुप्ता कहते हैं, “कोविड और जलवायु परिवर्तन के समय में अगर यह लोगों को दूसरों के कल्याण के बारे में अधिक जागरूक बनाता है, तो यह निश्चित रूप से सार्थक है। यह मानसिकता में दीर्घकालिक परिवर्तन का मामला है। माता-पिता को परामर्श देने की आवश्यकता है, ताकि वे अपने बच्चों में सामाजिक जागरूकता पैदा कर सकें। प्राथमिक विद्यालयों को भी इस पर जोर देने की जरूरत है।”

सामाजिक चेतना पर वैश्विक सर्वेक्षण दुनिया भर के संस्थानों के वैज्ञानिकों द्वारा किया गया था। भारत में यह अध्ययन सेंटर ऑफ बिहेवियरल एंड कॉग्निटिव साइंसेज, इलाहाबाद विश्वविद्यालय द्वारा किया गया था।

इस अध्ययन में शोधकर्ताओं ने 8,354 प्रतिभागियों के लिए 12 काल्पनिक सवाल रखे थे। इसके बाद के परिणामों ने देशों और व्यक्तियों के बीच महत्वपूर्ण अंतर को स्पष्ट कर दिया। शोधकर्ताओं ने कहा कि बेहतर तुलना के लिए उन्होंने औद्योगिक देशों का अध्ययन समान आर्थिक विकास प्रक्रिया के चरण को देखते हुए किया।

(Graph courtesy: (PNAS) – Proceedings of the National Academy of Sciences of the United States of America)

Your email address will not be published. Required fields are marked *