क्या ममता बनर्जी उतरेंगी गुजरात के चुनाव मैदान में ?

| Updated: July 21, 2021 10:47 pm

पश्चिम बंगाल की राजनीति में नरेंद्र मोदी और अमित शाह को हराने के बाद, ममता बनर्जी गुजरात में उन्हे चेलेन्ज करना चाहती है.
दीदी के गुजरात में सफल होने से ज्यादा महत्वपूर्ण यह है कि वह प्रधानमंत्री और गृह मंत्री को एक स्पष्ट संदेश दे रही हैं कि वह उनके राज्य में उन्हे लडत दे सकती हैं।

पहला संकेत बुधवार को मिला जब तृणमूल कांग्रेस सुप्रीमो ने कई राज्यों में एक साथ शहीद दिवस का संबोधन लाइव प्रसारित करने का फैसला किया। उसमें गुजरात का नाम भी शामिल है । जब गुजरात में गुजराती स्थानीय भाषा में होर्डिंग लगे तो गुजरातियों को आश्चर्य हुआ कि दीदी उन्हें भी संबोधित करेंगी। फाइन प्रिंट में सीधे तौर पर कहा गया है कि होर्डिंग अखिल भारतीय तृणमूल कांग्रेस के गुजरात संयोजक जीतेंद्र कुमार खादयता ने लगाया था। जो ममता दीदी का पहला कदम भी कहा जा सकता है ।

संपर्क करने पर, खादयता ने कहा कि उन्हें एआईटीसी के टीएमसी के राष्ट्रीय प्रवक्ता सुखेंदु शेखर रे के एक पत्र के माध्यम से “अभी कुछ दिन पहले” संयोजक नियुक्त किया गया था, जिसमें उनसे यह देखने के लिए कहा गया था कि गुजरात के जहाँ भी संभव हो ऐसे कौन से स्थानो पर दीदी के शहीद दिवस भाषण का सीधा प्रसारण कर सकते हैं। दो दशक तक कांग्रेस की गोधरा इकाई से जुड़े रहे और दो दिन पहले इस्तीफा दे चुके खदायता ने कहा, “ठीक है, चूंकि मैं अभी दो दिन पहले ही संयोजक बना हूं और पूरे राज्य में इसे आयोजित करने का समय नहीं है, लेकिन हमने अहमदाबाद के इसानपुर इलाके में एक जगह एलईडी स्क्रीन पर उनका भाषण लाइव देखा।”

और इसे उन्होंने स्वीकार किया, “अभी हमारे पास केवल 15-20 सदस्य हैं, लेकिन हमने अभी शुरुआत की है।” खादयता ने कहा, “हम अहमदाबाद, वडोदरा और सूरत में कार्यक्रम आयोजित करना चाहते थे, लेकिन हम नहीं कर सके मुख्य वजह सूरत में भारी बारिश हुई थी।”

इस बीच, अहमदाबाद के गीता मंदिर में टीएमसी का होर्डिंग मंगलवार देर रात हटा दिया गया। “जब मुझे मीडिया से पता चला कि होर्डिंग हटा दी गई है, तो मैं इस पोस्टर बनाने वाली एजेन्सी से इसके बारे में पता लगाने की कोशिश कर रहा हूं की ऐसा क्यूँ किया गया । मैं इस बारे में अपने राष्ट्रीय नेताओं को सूचित करूंगा।” सूरत और वडोदरा में होर्डिंग्स अभी भी हैं।
तो अब आप, एआईएमआईएम, NCP और यहां तक कि BSP के साथ, गुजरात के मैदान पर चुनावी दंगल के लिए अब एक और खिलाड़ी है।

Your email address will not be published.