गुजरात में नर्सिंग की 17000 सीटें चौथे दौर की कॉउंसलिंग के बाद भी खाली

| Updated: April 19, 2022 2:46 pm

नर्सिंग, फिजियोथेरेपी, ऑडियोलॉजी, ऑक्यूपेशनल थेरेपी और नेचुरोपैथी जैसे पैरामेडिकल पाठ्यक्रमों के लिए चौथे दौर में दाखिले के बाद राज्य में इन 30,000 सीटों में से लगभग 17,000 सीटें अभी भी खाली हैं.

नर्सिंग, फिजियोथेरेपी, ऑडियोलॉजी, ऑक्यूपेशनल थेरेपी और नेचुरोपैथी जैसे पैरामेडिकल पाठ्यक्रमों के लिए चौथे दौर में दाखिले के बाद राज्य में इन 30,000 सीटों में से लगभग 17,000 सीटें अभी भी खाली हैं.

नियमानुसार जब भी सीटें खाली होती हैं। गुजरात प्रोफेशनल नर्सिंग एंड एलाइड मेडिकल एजुकेशनल कोर्स (GPNAMEC) प्रवेश समिति तब निजी कॉलेजों के प्रबंधन को रिक्तियों को भरने की अनुमति देती है।

सूत्रों के अनुसार, जो सीटें वास्तव में भरी नहीं गई हैं, उन्हें समिति ने खाली घोषित कर दिया है। इसलिए यह कॉलेजों को इसे भरने की अनुमति देता है। सूत्रों ने बताया कि यह प्रथा पिछले तीन साल से चल रही है।

सूत्रों ने कहा कि स्व-वित्तपोषित कॉलेजों ने अपनी रिक्तियां नहीं भरी हैं। लेकिन उन्होंने अपने शैक्षणिक सत्र शुरू कर दिए हैं।

GPNAMEC के एक बयान में कहा गया है कि चौथे दौर में 152 छात्रों को प्रवेश दिया गया था। जिसमें से 42 छात्रों ने अपने प्रवेश की पुष्टि की। सरकार ने इस साल 150 से ज्यादा नए पैरामेडिकल कॉलेजों को मंजूरी दी है।

ब्रिटेन+बोरिस+बिजनेस: गुजरात में चार दिनों में तीन प्रधानमंत्रियों के ऐतिहासिक कार्यक्रम

Your email address will not be published.