संगिनी समहू छापेमारी में लाकर से मिले 20 करोड़ नगद ,गहने

| Updated: January 22, 2022 10:46 am

डेढ़ महीने पहले, आईटी की जांच विंग ने संगिनी समूह सहित बिल्डरों और दलालों के लिए एक तलाशी अभियान चलाया था जिसकी जाँच वेसु के निजी सुरक्षित जमा तिजोरी तक पहुंच गई, जहां हाल ही में 14 लॉकर खोले गए जिनमे20 करोड़ रुपये की नकदी और जेवरात पाए गए।

जांच से पता चला कि वॉल्ट-लॉकर ज्यादातर दलालों द्वारा संचालित किया जाता था। इस लॉकर में बुकिंग के पैसे रखे हुए थे। अधिकारियों द्वारा जब्त की गई डायरियों की जाँच लॉकर तक पहुंचने का साधन बनी ,अभी तक अधिकारियों ने ऑपरेशन पर कोई टिप्पणी नहीं की है। विंग ने संगिनी, अरिहंत बिल्डर ग्रुप के अलावा 10 से ज्यादा दलालों पर छापेमारी की थी | जिसमे . करीब 40 जगहों पर 150 से ज्यादा अधिकारियों ने जांच की।

जिसकी जाँच वेसु के सुमंगल प्राइवेट वॉल्ट में पहुंची. जिसमें कुल 900 लॉकर थे। अधिकारियों ने संदेह के आधार पर सिर्फ 14 लॉकरों की जांच की। उनमें से कुछ में केवाईसी मानदंडों का भी ठीक से पालन नहीं किया गया था। पता चला है कि मामला बाद में हाईकोर्ट पहुंचा। जिसमें इस कार्रवाई को चुनौती दी गई थी।जांच में पता चला कि दलाल बिल्डरों की ओर से बुकिंग ले रहे थे, फिर पैसे को लॉकर में रख रहे थे। डायरी 2-2 प्रतिशत लाभ के इर्द-गिर्द घूमती थी।

ऐसी कई डायरियां अधिकारियों के हाथ में आ चुकी हैं। सभी बुकिंग दलालों द्वारा की गई थी।छापेमारी में कुल 650 करोड़ रुपये के बेनामी लेनदेन पाए गए। जिसमें 300 करोड़ से ज्यादा फ्लैट सिर्फ कैश में बिके। जबकि 200 करोड़ के लेन-देन को किताब में नहीं दिखाया गया था। उस समय अधिकारियों ने 4 करोड़ रुपये नकद और 3 करोड़ रुपये के आभूषण जब्त किए थे।

Your email address will not be published.