विभिन्न समाज पर दर्ज आंदोलन के मामले वापस लिए जायेगे – आप

| Updated: October 12, 2022 6:36 pm

गुजरात विधानसभा चुनाव Gujarat assembly Elections की अधिसूचना जारी होने के पहले विभिन्न राजनीतिक दल political party मतदाताओं को लुभाने में लगे हैं , गारंटी कार्ड के बाद आम आदमी पार्टी Aam Aadmi Party ने विभिन्न आंदोलनों के दौरान दर्ज विभिन्न समाज , तथा वर्गों के खिलाफ दर्ज पुलिस केस वापस लेने की घोषणा की। साथ ही आरोप लगाया कि भाजपा सरकार की नीतियों से परेशान होकर आंदोलन करता है तो आंदोलन को तोड़ने के लिए झूठे पुलिस केस का सहारा लिया जाता है।

गुजरात में भाजपा सरकार द्वारा समाज और विभिन्न वर्गों के साथ बार-बार अन्याय किया गया है। अन्याय के बाद जब कोई भाजपा नेताओं से निवेदन या मांग करता है, तो उनकी मांगों को भी नहीं सुना जाता है। सचिवालय और उनके दफ्तरों में बुलाकर लोगों को अपमानित किया जाता है. जब किसी समाज में कोई व्यक्ति किसी आंदोलन में शामिल होता है तो उस आंदोलन को दबाने के लिए झूठी धाराएं लगाकर उसे परेशान किया जाता है। गुजरात में पिछले दिनों कई आंदोलन हुए हैं और इन आंदोलनों के पीछे समाज की मजबूरी है. अगर सत्ता में बैठे लोग जनता की बात सुनेंगे तो किसी को आंदोलन करने की जरूरत नहीं पड़ेगी। अगरआंदोलन करते हैं तो उन्हें जेल में डाल दिया जाता है.

पिछले कुछ दिनों में कई आंदोलन हुए हैं और आंदोलन को कुचलने के लिए लोगों के खिलाफ झूठे मुकदमे दर्ज किए गए हैं। मालधारी समुदाय ने अपने अधिकारों के लिए आंदोलन किया और कई जगहों पर शांतिपूर्ण रैलियां कीं। मालधारी समाज की बात सुनने के बजाय भाजपा सरकार ने मालधारी समाज के लोगों खासकर युवाओं और महिलाओं के खिलाफ झूठे मुकदमे दर्ज करा दिए हैं। भाजपा ने गरीब समाज की महिलाओं को जेल में डालने का काम किया है।

आदिवासी समाज अपनी जमीन, पानी और जंगल के लिए लंबे समय से लड़ रहा है और खासकर केवड़िया कॉलोनी क्षेत्र में आदिवासी समाज ने भूमि अधिग्रहण के मुद्दे पर आंदोलन किया था और अब तापी और डांग क्षेत्र में आदिवासी समाज भी तापी पार क्षेत्र में गलत भूमि अधिग्रहण के खिलाफ लड़ रहा है. आंदोलन को तोड़ने के लिए झूठी प्राथमिकी भी दर्ज कराई गई है।

इसके अलावा पाटीदार आंदोलन को तोड़ने का भी प्रयास किया गया, जिसने पूरे देश में बहस छेड़ दी थी। पाटीदार युवकों के खिलाफ कई झूठे मुकदमे दर्ज किए गए। इसके अलावा लोकरक्षक भर्ती में भी अन्याय किया गया। लोगों ने इसका विरोध भी किया और इस आंदोलन को तोड़ने के लिए भी भाजपा के नेताओं ने झूठी एफआईआर दर्ज करने और उन्हें जेल भेजने का निम्न स्तर का काम किया। गुजरात की बहोश पुलिस ने भी अपने ग्रेड पे के लिए आंदोलन किया और जब पुलिस ने आंदोलन किया तो पुलिस के खिलाफ ही झूठी प्राथमिकी दर्ज की गई। कुछ लोगों को जेल में डाल दिया गया और आंदोलन में उनका झूठा तबादला कर दिया गया।

इन सभी समाजों और संगठनों के लोगों के खिलाफ गलत मुकदमे वापस लिए जाएं। इसलिए आम आदमी पार्टी ने एक अहम फैसला लिया है कि जैसे ही आम आदमी पार्टी सत्ता में आएगी, सभी वर्गों और सभी समाजों के लोगों के खिलाफ सभी गलत मामलों को रद्द कर दिया जाएगा। और जिन सभी निर्दोष लोगों को प्रताड़ित किया गया है उन्हें न्याय के कटघरे में लाया जाएगा।

अडाणी डेटा नेटवर्क को मिला सभी तरह की टेलीकॉम सर्विस देने का लाइसेंस

Your email address will not be published. Required fields are marked *