NCERT ने अब कक्षा 10 की पाठ्यपुस्तकों से लोकतंत्र और आवर्त सारणी का अध्याय हटाया - Vibes Of India

Gujarat News, Gujarati News, Latest Gujarati News, Gujarat Breaking News, Gujarat Samachar.

Latest Gujarati News, Breaking News in Gujarati, Gujarat Samachar, ગુજરાતી સમાચાર, Gujarati News Live, Gujarati News Channel, Gujarati News Today, National Gujarati News, International Gujarati News, Sports Gujarati News, Exclusive Gujarati News, Coronavirus Gujarati News, Entertainment Gujarati News, Business Gujarati News, Technology Gujarati News, Automobile Gujarati News, Elections 2022 Gujarati News, Viral Social News in Gujarati, Indian Politics News in Gujarati, Gujarati News Headlines, World News In Gujarati, Cricket News In Gujarati

NCERT ने अब कक्षा 10 की पाठ्यपुस्तकों से लोकतंत्र और आवर्त सारणी का अध्याय हटाया

| Updated: June 2, 2023 13:28

राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद (NCERT) ने 1 जून को घोषणा की कि उसने कोविड महामारी (Covid pandemic) के दौरान छात्रों पर सामग्री के बोझ को कम करने के लिए कक्षा 10 की पाठ्यपुस्तकों में संशोधन किया है। इन संशोधनों के हिस्से के रूप में, कुछ अध्यायों को पाठ्यक्रम से हटा दिया गया है।

विज्ञान की पाठ्यपुस्तक में तत्वों के आवधिक वर्गीकरण, ऊर्जा के स्रोत और प्राकृतिक संसाधनों के सतत प्रबंधन के अध्यायों को हटा दिया गया है। इसी तरह सोशल स्टडीज की पाठ्यपुस्तक में डेमोक्रेटिक पॉलिटिक्स-1 से तीन अध्याय हटा दिए गए हैं। इन अध्यायों में लोकप्रिय संघर्ष और आंदोलन (Popular Struggles and Movements), राजनीतिक दल (Political Parties) और लोकतंत्र की चुनौतियां (Challenges to Democracy) शामिल हैं।

यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि छात्रों के पास अभी भी इन विषयों के बारे में जानने का अवसर है यदि वे 11वीं और 12वीं कक्षा में प्रासंगिक विषयों का चयन करना चुनते हैं। इसके अतिरिक्त, एनसीईआरटी को हाल ही में कक्षा 10 के पाठ्यक्रम से जैविक विकास के सिद्धांत को खत्म करने के अपने निर्णय के लिए आलोचना का सामना करना पड़ा है। इस फैसले से विशेषज्ञों के बीच व्यापक बहस और चिंता छिड़ गई है।

एनसीईआरटी (NCERT) ने यह कहते हुए अपने फैसले को सही ठहराया कि चल रहे कोरोनावायरस महामारी (coronavirus pandemic) के कारण छात्रों पर अकादमिक बोझ को कम करना आवश्यक था। संगठन ने इन अध्यायों को पाठ्यक्रम से हटाने में योगदान देने वाले कारकों के रूप में सामग्री के कठिनाई स्तर, अतिव्यापी जानकारी और वर्तमान संदर्भ में प्रासंगिकता की कथित कमी जैसे कारणों का हवाला दिया।

सामग्री भार को कम करने के लिए, छठी, सातवीं और आठवीं कक्षा में फाइबर और कपड़े पर अध्यायों को हटा दिया गया है। इसके अलावा, छठी कक्षा की इतिहास की पाठ्यपुस्तक का एक अध्याय जिसमें महात्मा गांधी और चरखे का संदर्भ दिया गया था, हटा दिया गया है। इसके अतिरिक्त, कक्षा IX की विज्ञान पाठ्यपुस्तक से ‘हम बीमार क्यों पड़ते हैं’ शीर्षक वाला अध्याय हटा दिया गया है। इस अध्याय ने पहले छात्रों को कोविड-19 जैसे उदाहरणों सहित वायरस और वायु जनित रोगों से परिचित कराया था।

यह भी पढ़ें- बलात्कार के आरोप में दोषी आसाराम बापू की पत्नी के खिलाफ गुजरात सरकार ने उठाया यह कदम

Your email address will not be published. Required fields are marked *