सत्यजीत रे की फिल्में: फिर जीवंत हो मचा रही हैं दुनियाभर में धूम - Vibes Of India

Gujarat News, Gujarati News, Latest Gujarati News, Gujarat Breaking News, Gujarat Samachar.

Latest Gujarati News, Breaking News in Gujarati, Gujarat Samachar, ગુજરાતી સમાચાર, Gujarati News Live, Gujarati News Channel, Gujarati News Today, National Gujarati News, International Gujarati News, Sports Gujarati News, Exclusive Gujarati News, Coronavirus Gujarati News, Entertainment Gujarati News, Business Gujarati News, Technology Gujarati News, Automobile Gujarati News, Elections 2022 Gujarati News, Viral Social News in Gujarati, Indian Politics News in Gujarati, Gujarati News Headlines, World News In Gujarati, Cricket News In Gujarati

सत्यजीत रे की फिल्में: फिर जीवंत हो मचा रही हैं दुनियाभर में धूम

| Updated: December 25, 2021 23:35

एक हफ्ते पहले वर्षा बंसल जेद्दा के ऐतिहासिक अल बलाद जिले में एक अस्थायी मूवी हॉल में सऊदी अरब के दर्शकों को सत्यजीत रे की फिल्म दिखाने के लिए खड़ी थीं। फिल्म थी, 1979 की मिस्ट्री फिल्म- जय बाबा फेलुनाथ। यह दुनिया भर की उन आठ फिल्मों में शामिल थी, जिसे नवीकरण के बाद फिर से प्रदर्शन लायक तैयार किया गया है। इन्हें रेड सी इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल के ट्रेजर सेक्शन में दिखाया गया था, जो मध्य पूर्वी राष्ट्र में सिनेमाघरों पर 35 साल के लंबे प्रतिबंध के बाद इस तरह का पहला कार्यक्रम था।

बंसल कहती हैं, “यह अविश्वसनीय था; सत्यजीत रे की आधी सदी पुरानी फिल्म सऊदी अरब में दिखाई जा रही थी। यह नई पीढ़ियों को रे की फिल्में देखने के लिए प्रेरित कर रही है।” बता दें कि बंसल का परिवार सत्यजीत रे की जय बाबा फेलुनाथ और पांच अन्य फिल्मों का निर्माता रहा है।

जेद्दा उत्सव के अलावा रे की फिल्मों ने इस साल फ्लोरेंस, इटली, हांगकांग एशियाई फिल्म महोत्सव, भारतीय फिल्म महोत्सव, मेलबर्न, ऑस्ट्रेलियाई सिनेमाथेक, दक्षिण एशिया के अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव, टोरंटो में भारतीय फिल्म महोत्सव तक की यात्रा की है। स्लोवेनिया में ज़ुब्लज़ाना अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव। बंसल अगले महीने कोलकाता इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल में नायक फिल्म दिखाएंगी, जो सुपरस्टार वाली रे की पहली थी।

बंसल के दादा आरडी बंसल फिल्म बितरक के साथ-साथ  निर्माता भी थे। उन्होंने मध्य कोलकाता के धर्मतला के पड़ोस में व्यस्त लेनिन सारणी स्थित एक ऑफिस में काम किया था, जहां से उन्होंने परिवार के साथ रे की सिनेमाई दुनिया की उल्लेखनीय यात्रा शुरू की।

कोलकाता स्थित पारिवारिक उद्यम- आरडीबी एंटरटेनमेंट्स- के लिए अंतरराष्ट्रीय कारोबार के प्रमुख बंसल कहती हैं, ”मेरे दादाजी रे की फिल्म के लिए पहले गैर-बंगाली निर्माता थे।”

1963 और 1979 के बीच आरडी बंसल ने रे की छह फिल्मों का निर्माण किया। ये फिल्में थीं- महानगर (1963), चारुलता (1964), कपूर और महापुरुष (1965), नायक (1966) और जय बाबा फेलुनाथ (1979)। उनसे पहले रे ने पश्चिम बंगाल सरकार की मदद से अपनी फिल्मों का निर्माण किया था। रे की फिल्मों का एक अन्य प्रमुख निर्माता कोलकाता की छायाबनी पिक्चर्स था, जबकि बाद में देर से राष्ट्रीय फिल्म विकास निगम 80 और 90 के दशक में आगे आया।

बंसल कहती हैं, ”हालांकि महानगर ने व्यावसायिक रूप से अच्छा प्रदर्शन नहीं किया, लेकिन मेरे दादा ने रे के साथ काम करना जारी रखा.”

कोलकाता में पांच सिनेमाघरों के मालिक आरडी बंसल ने भी रे को एक सुपरस्टार के साथ एक पटकथा लिखने के लिए राजी किया। परिणाम रहा- उत्तम कुमार अभिनीत फिल्म नायक। उत्तम कुमार उस समय बंगाली फिल्म उद्योग में बहुत बड़े स्टार थे। साथ में थीं शर्मिला टैगोर, जिन्होंने पहले ही रे के अपुर संसार और देवी में अभिनय किया था। वह आगे कहती हैं, ”नायक की भूमिका को उत्तम कुमार जैसा कोई नहीं निभा सकता था।”

आरडी बंसल की बतौर निर्माता पहली फिल्म सुधीर मुखर्जी द्वारा निर्देशित 1959 की बंगाली ब्लॉकबस्टर शशि बाबर संसार थी। वह 1992 में गुरु की मृत्यु तक रे के करीबी दोस्त बने रहे। उनके बेटे कमल बंसल और रे के बेटे संदीप रे ने पारिवारिक संबंधों को जारी रखा। आरडी बंसल ने 2005 में संदीप रे के निर्देशन वाली फिल्म निशिजापोन भी बनाई। इसके सौमित्र चटर्जी और रितुपर्णा सेनगुप्ता जैसे कलाकार थे।

जब रे की मृत्यु के लगभग दो दशक बाद 2010 में आरडी बंसल की मृत्यु हुई, तो उनके द्वारा निर्मित रे की छह फिल्मों की निगेटिव खराब हो गईं, ठीक उनके अन्य कार्यों की तरह। यह गति मृणाल सेन जैसों के साथ भी हुई।

बंसल कहती हैं, ”हमने कोलकाता में अपने स्टोरहाउस में नेगेटिव को अच्छी स्थिति में रखा था। हम जानते थे कि यह हमारी विरासत है और हमें इन्हें संरक्षित करना चाहिए।”

एक साल बाद आरडीबी एंटरटेनमेंट्स ने रे की सभी छह फिल्मों के नवीनीकरण करने का फैसला किया। एक बड़ी प्रक्रिया शुरू की जो एक साल से अधिक समय तक चलने वाली थी। मुंबई में पिक्सियन स्टूडियोज ने 2के रेजोल्यूशन में छह फिल्मों को डिजिटल रूप से बहाल करने के लिए अपनी प्रयोगशाला में फ्रेम दर फ्रेम नेगेटिव को स्कैन किया।

ब्रिटेन से फिल्म अध्ययन में मास्टर डिग्री पूरी करने के बाद 1993 में पारिवारिक व्यवसाय में शामिल हुई बंसल ने कहा, “हम फिल्मों को बचाने में सफल रहे।”

दुनिया के लिए रे

आरडीबी से नवीनीकरण कर रे की फिल्म को प्रदर्शित करने का पहला अवसर एक साल बाद कान्स में आया। अल्फ्रेड हिचकॉक की वर्टिगो के साथ 2013 में चारुलता को कान क्लासिक्स खंड का हिस्सा बनने का मौका मिला, जिसका फिल्मी दुनिया ने उत्साह के साथ स्वागत किया।

नवीनीकरण की गुणवत्ता से प्रभावित होकर अमेरिकी होम वीडियो वितरण कंपनी द क्रिटेरियन कलेक्शन शीघ्र ही संयुक्त राज्य अमेरिका में रे की फिल्मों के वितरण के लिए आरडीबी भागीदार बन गई। उसी वर्ष नवीनीकरण से जीवंत हुई फिल्म महापुरुष जहां बीएफआई लंदन उत्सव में शामिल हुई, वहीं महानगर को वेनिस में प्रदर्शित किया गया था। फिल्म नायक 2014 में बर्लिन उत्सव का हिस्सा थी। एक दशक पहले क्राइटेरियन कलेक्शन ने एकेडमी ऑफ मोशन पिक्चर आर्ट्स एंड साइंसेज के साथ साझेदारी कर रे की अपू त्रयी (पाथेर पांचाली, अपराजितो और अपूर संसार) के नवीनीकरण का प्रयास किया।

आरडीबी एंटरटेनमेंट्स द्वारा निर्मित रे की छह फिल्मों के निगेटिव को वर्तमान में वियना में ऑस्ट्रियन फिल्म आर्काइव में सुरक्षित रखा गया है। बंसल कहती हैं, ”हमने 2014 में निगेटिव को अभिलेखीय उद्देश्यों के लिए वियना भेजा था। हमारी ओर से ही निगेटिव को वहां रखा गया है। हम उन्हें भारत वापस लाने और मुंबई की लैब में रखने की योजना बना रहे हैं।” 30 एमएम की पॉजीटिव प्रिंट लॉस एंजिल्स में एकेडमी ऑफ मोशन पिक्चर आर्ट्स एंड साइंसेज में संग्रहीत हैं।

एक दशक पहले नवीनीकरण के बाद से बंसल और आरडीबी एंटरटेनमेंट्स रे की फिल्मों के जादू को दुनिया के कोने-कोने में फैला रही हैं। महान फिल्मकार के जन्म शताब्दी वर्ष में रे कि फिल्मों को आरडीबी के वितरकों ने फ्रांस, अमेरिका, ब्रिटेन, बेनेलक्स देशों, अर्जेंटीना, जापान, पोलैंड, पुर्तगाल, स्पेन और मॉरीशस जैसे देशों तक में पहुंचा दिया है। बंसल छायाबनी और ऑरोरा फिल्म्स द्वारा निर्मित रे की आठ फिल्मों के वैश्विक प्रदर्शन के लिए भी जवाबदेह हैं।

फ्रांस में, जहां रे बेहद लोकप्रिय हैं, उनकी छह फिल्में मार्च 2022 में ब्लू-रे में रिलीज होंगी। फ्रांसीसी क्लासिक्स वितरक कार्लोटा फिल्म्स के अध्यक्ष विन्सेंट पॉल-बोनकोर कहते हैं, “हम महान फिल्मकार के कार्यों के लिए फ्रांस में स्थापित पहला सत्यजीत रे वीडियो बॉक्स जारी करने को लेकर  उत्साहित हैं।” वह कहते हैं, “आरडीबी के लिए धन्यवाद, फ्रांसीसी दर्शकों और सिनेप्रेमियों की एक नई पीढ़ी के लिए इस बहुत ही आधुनिक, चिरस्थायी निर्देशक की खोज (पुनः) करने के लिए भी शुक्रिया।”

जेद्दा में सऊदी सिनेमा प्रेमियों के साथ रेड सी फेस्टिवल में जय बाबा फेलुनाथ को देखने के लिए बड़ी संख्या में भारतीय अप्रवासी थे। केरल के एक इंजीनियर असलम अलंगदान कहते हैं, ”फिल्म की इस तरह की नवीनीकरण के लिए सराहना की जानी चाहिए। इससे इतनी पुरानी फिल्म भी पर्दे पर सुगम्य  लगी।

रेड सी फेस्टिवल के कलात्मक निर्देशक एडौर्ड वेनट्रोप सऊदी अरब में पहली बार बड़े पर्दे पर रे और अन्य की क्लासिकल फिल्मों को दिखाने को लेकर उत्साहित थे। कान्स में समानांतर डायरेक्टर्स फोर्टनाइट कार्यक्रम के पूर्व प्रमुख वेन्ट्रोप कहते हैं, “यह उन्हें दिखाने के लिए एक विशेष रूप से रोमांचक समय है, क्योंकि यह न केवल इन फिल्मों के उत्सव को एक बार फिर से मनाने की अनुमति देता है, बल्कि उन तरीकों को भी दिखाता है जिनसे उन्होंने फिल्म निर्माताओं की नवीनतम पीढ़ी को प्रेरित किया है।”

Your email address will not be published. Required fields are marked *