क्या सूरत में बना था मेहुल चोकसी का फर्जी डोमिनिकन पासपोर्ट?

| Updated: July 12, 2021 8:44 pm

भगोड़े कारोबारी मेहुल चोकसी के प्रत्यर्पण के लिए भारत सरकार द्वारा जारी प्रयासों के बीच गुजरात में आतंकवाद निरोधी दस्ते (एटीएस) ने कथित तौर पर उसका फर्जी पासपोर्ट बनाने के आरोप में एक व्यक्ति को पकड़ा है। उसका नाम एडम मोहम्मद इरफान है। उसे सूरत के मोटा वराचा से सोमवार, 12 जुलाई को पकड़ा गया।
चोकसी ने डोमिनिकन रिपब्लिक से पंजाब नेशनल बैंक (PNB) को लगभग 13,600 करोड़ रुपये का चूना लगाया हुआ है। वह 23 मई को रात के खाने के लिए बाहर जाने के बाद एंटीगुआ से लापता हो गया था। लेकिन जल्द ही डोमिनिका में पकड़ा गया। भारत में प्रत्यर्पण से बचने की कोशिश में एंटीगुआ और बारबुडा से कथित रूप से भाग जाने के बाद उसे पुलिस ने डोमिनिका में अवैध रूप से प्रवेश के आरोप में पकड़ लिया। गौरतलब है कि इसी तरह संदेसरा बंधु भी फर्जी पासपोर्ट पर ही गुजरात से अल्बानिया पहुंचे थे। संदेसरा बंधुओं को एक स्थानीय बैंक को 5,000 करोड़ रुपये की चपत लगाने और भारतीय सार्वजनिक उपक्रमों को कच्चा तेल बेचकर भारी-भरकम पैसा बनाने के लिए दोषी ठहराया गया था।

एडम मामले में एक जांचकर्ता ने कहा, ” हमने यह भी पाया कि एडम व्हाट्सएप पर अलग-अलग व्यक्तियों के साथ चैट कर रहा था। यह कहते हुए कि उसने हवाई अड्डे पर “सेटिंग” की हुई है। इस कारण वह पाकिस्तान और बांग्लादेश के नागरिकों को पाकिस्तान से यूरोप, दक्षिण अफ्रीका, कनाडा और ब्रिटेन भेज चुका है। ” एडम के खिलाफ सूरत, भरूच, वडोदरा, मुंबई और कोलकाता समेत कई शहरों में धोखाधड़ी के सात मामले दर्ज हैं। ये अपराध लोगों को वीजा दिलाने के नाम पर ठगी करने और फर्जी वीजा स्टांप वाले पासपोर्ट देकर ठगने से जुड़े हैं।

एटीएस अधिकारियों ने कहा कि एडम पहले डोमिनिकन रिपब्लिक के आईडी पासपोर्ट की खरीद के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले नकली निवेश प्रमाणपत्रों के लिए राजी था। हालांकि, गुजरात एटीएस के अधिकारियों ने इस बात से इन्कार किया कि एडम का मेहुल चोकसी मामले से कोई संबंध था। बता दें कि चोकसी को अवैध रूप से देश में प्रवेश करने के आरोप में 23 मई 2021 को डोमिनिकन रिपब्लिक में पकड़ा गया था।

एटीएस के शीर्ष अधिकारियों ने बताया कि गुप्त सूचना पर उनकी टीम ने 12 जुलाई को सूरत के मोटा वराचा इलाके में एडम के घर पर छापा मारा। एटीएस के एक शीर्ष अधिकारी ने कहा, “छापे में उसके घर से हमें वीजा स्टांप के साथ नेपाल, आर्मेनिया, तुर्की, मलेशिया, दक्षिण अफ्रीका, कनाडा, अमेरिका, पेरू और नाइजीरिया जैसे देशों के कई पासपोर्ट मिले। पूछताछ के दौरान एडम ने उनके सामने यह भी कहा कि डोमिनिकन रिपब्लिक का आईडी पासपोर्ट प्राप्त करने के लिए निवेश प्रमाणपत्र बनाना संभव है। एडम ने यह भी कहा कि ऐसे पासपोर्ट का उपयोग अन्य देशों के वीजा प्राप्त करने के लिए भी हो सकता है।”
एटीएस अधिकारियों ने बताया कि कुछ समय पहले एडम ने एक विज्ञापन वाले वेबसाइट पर कथित रूप से अश्लील पोस्ट किया था। उन्होंने कहा, “इसके लिए एडम पर हमने आईटी कानून के तहत भी मामला दर्ज किया है।” इतना ही नहीं, एडम के खिलाफ कई अन्य शहरों में भी आपराधिक मामले दर्ज हैं।

Your email address will not be published. Required fields are marked *