वेनसडे वाइब्स

| Updated: April 13, 2022 3:36 pm

आप बड़े चर्चे में हैं

सियासत का भी अजब खेल है , अपने से ज्यादा दूसरों की चिंता होती है। बात कमलम यानि गांधीनगर के भाजपा मुख्यालय की है। भाजपा मुख्यालय में राज्य भर के कार्यकर्ता आते हैं , इसलिए वेटिंग टाइम में टाइम पास के लिए चर्चा भी जरुरी है , लेकिन चर्चा हो रही थी आप यानि आम आदमी पार्टी की। मनीष सिसोदिया की ,स्कूल की और जीतू वाघाणी की। एक कार्यकर्ता के मुताबिक जो शायद जीतू वाघाणी का समर्थक था का कहना है की अपने साहब को फसाया जा रहा है , स्कूल तो सब की है। दूसरा कहता है साहब की स्कूल है शानदार। तीसरा अनमने मन से कहता है चलो स्कूल की बात तो हुयी , तब तक उनका बुलावा आ जाता है और उठकर चले जाते हैं।

नितिन भाई आप अभी भी याद आ रहे हो!


गुजरात के लंबे समय से लंबित मुख्यमंत्री नितिन पटेल ने भले ही राज्य का चेहरा बनने का मौका गंवा दिया हो लेकिन उन्होंने लोगों के दिलों में अपनी जगह जरूर बना ली है। गुजरात के एक कैबिनेट मंत्री के मौजूदा स्टाफ ने जो पहले नितिनभाई के साथ काम किया था और वे उन्हें प्यार से याद करते हैं।
उनमें से एक ने कहा कि “नितिनभाई मिलनसार थे, उन्होंने हम सभी के साथ सम्मान के साथ व्यवहार किया और जरूरत पड़ने पर हमारी मदद भी की। हम उनसे उनके बंगले पर ही मिल सकते थे और वह हमारी चिंताओं को सुनते थे। अब, चीजें पहले जैसी नहीं हैं।”

हर्षभाई: सबसे लंबी लाइन वाले मंत्री


स्वर्णिम संकुल -2 के गलियारों में टहलें और आप देखेंगे कि सबसे लंबी कतार सबसे कम उम्र के मंत्री हर्ष सांघवी के केबिन के बाहर है । गृह राज्य, युवा और खेल मंत्री से मिलने के लिए 200 से अधिक लोग आसानी से लाइन में लग जाते हैं।
अधिकांश अपनी चिंताओं के साथ आते हैं और कुछ केवल सांघवी को बधाई देते हैं। “हर्ष भाई धैर्यपूर्वक हमारी बात सुनते हैं और मौके पर समाधान देते हैं। वह कुछ कॉल करते या अपनी टीम से मामले को देखने के लिए कहते। वह हमारी एकमात्र आशा है।”
कभी-कभी उनके दरवाजे पर लोगों की संख्या कैबिनेट मंत्रियों की प्रतीक्षा कर रहे लोगों से भी अधिक हो जाती है। ऐसा है हर्षभाई का आकर्षण! वैसे भी उत्तर भारत में एक कहावत है ,मक्खी वहीं ज्यादा होती हैं जंहा गुड़ होता है।

माफ़ करें, चुनाव हैं!


यहां किसानों के लिए कुछ अच्छी खबर है। गुजरात सरकार बंजर भूमि के सभी पट्टेदारों को राहत देने की तयारी कर रही है – जिन्होंने ऐसी फसलें उगाई हैं जिनकी राज्य सरकार ने पहचान नहीं की थी।
पहले, राज्य द्वारा तय की गयी फसलों को छोड़कर इन तटीय भूमि पर कुछ भी उगाना एक दंडनीय कार्य था, लेकिन अब, सरकार कानून में संशोधन कर सकती है और भूमि को किसी भी प्रकार की फसल की खेती के लिए खोल सकती है। यह कदम राजस्व विभाग की ओर से आया है और ऐसा लगता है कि किसानों को लुभाने की तैयारी शुरू हो चुकी है. माफ़ करें, गुजरात चुनाव हैं!

कैदी का भी व्यवहार देख कर सजा कम हो जाती है ,यह तो विधायक है

भाजपा से कांग्रेस में गए एक पूर्व विधायक की घर वापसी हो रही है , तैयारी में टेंट शामियाना लगे हैं, सुरक्षा का प्रशासन जायजा ले रहा था , पार्टी में चिंता उनके आने के कारण को लेकर हो रही थी। भाजपा के विधायक और जिला प्रमुख रह चुके नेता के लिए एक गुरु टाइप के नेता ने अपने चलो को समझाते हुए कहा साढ़े चार साल कांग्रेस में रहकर भी भाजपा के खिलाफ कहा कुछ किया , पार्टी ने 6 साल के लिए निलंबित किया था लेकिन अच्छा व्यवहार देखकर तो कैदी की भी सजा काम हो जाती है , फिर यह तो पुराने भाजपाई हैं इसलिए साढ़े चार साल में ही घर वापसी हो रही है। वह भी मुख्यमंत्री और प्रदेश प्रमुख की उपस्थिति में।

Your email address will not be published.