एक बस में 50 लोग – पीएम मोदी की सभा को सफल बनाने के लिए 5 जिला के लोगों को लाने की जिम्मेदारी प्रशासन के हवाले

| Updated: June 17, 2022 9:27 pm

गांधीनगर : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 18 जून को वडोदरा के आजवा रोड स्थित लेप्रॅसी मैदान में महिला एवं जनशक्ति सम्मेलन को सम्बोधित करेंगे। सभा को सफल बनाने के लिए संगठन के साथ साथ सरकारी अमला भी लगा है। जिला प्रशासन, पुलिस और स्वास्थ्य विभाग समेत विभिन्न विभाग कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए कड़ी मेहनत कर रहे हैं.

आर एंड बी ने आयोजन के लिए 2,10,798 वर्ग फुट के मैदान में एक मंच और 7 गुंबद बनाए हैं और प्रति गुंबद 80,000 लोगों को समायोजित करने की व्यवस्था की गई है। 18 तारीख को पहली बार पावागढ़ में महाकाली माताजी के दर्शन करने के बाद प्रधानमंत्री ‘मुख्यमंत्री मातृशक्ति योजना’ का उद्घाटन करने के लिए लेप्रॅसी मैदान पहुंचेंगे। महिला एवं जनशक्ति सम्मेलन में 5 जिलों के लोगों को सम्मेलन में पहुंचने के लिए सरकारी तंत्र लगाया गया है.

एक बस में 50 लोगों के सवार होने की उम्मीद है। इन लोगों की व्यवस्था में उन्हें कार्यक्रम स्थल पर जाते समय नाश्ता दिया जाना है, जिसके बाद उन्हें छास और पारले जी बिस्कुट दिया जायेगा . इन लोगों के लिए कार्यक्रम मंडप में भी अलग से व्यवस्था की गई है जिसमें पानी जैसी सुविधाएं भी होंगी। प्रत्येक गाँव से एक बस होगी और यदि एक बड़ा गांव है तो अधिक बसें आवंटित की जाएंगी।

कार्यक्रम खत्म होने के बाद लोगों के लौटने पर उन्हें खाना खिलाना होगा। इस दौरे का समन्वय ग्राम पंचायत के तलाटी को सौंपा गया है। एक सूत्र के अनुसार, बसें सुबह 7.30 बजे गांव से रवाना होंगी और कार्यक्रम स्थल पर वडोदरा पहुंचेंगी।

सरकारी कर्मचरियों को सौपी गयी जिम्मेदारी

एक सूत्र के मुताबिक, पीएम के कार्यक्रम में सरकारी मशीनरी और पुलिस के अलावा ग्राम पंचायत के तलाटी, स्वास्थ्य विभाग की आशा कार्यकर्ता बहनें, आंगनवाड़ी कार्यकर्ता बहनें और स्वास्थ्य कार्यकर्ता भी ड्यूटी पर रहेंगे. इस कार्यक्रम में पंचमहल, वडोदरा, छोटा उदयपुर, आणंद, खेड़ा जिले के लोग शामिल होंगे.

शहर में आयी पुलिस के लिए खाने – पानी की भी ठीक से व्यवस्था नहीं है

राज्य के विभिन्न जिलों और शहरों के पुलिस कर्मियों और पुलिस अधिकारियों को पहले ही गृह विभाग द्वारा कानून-व्यवस्था और सुरक्षा के उपाय के रूप में विशेष पीएम व्यवस्था के लिए वडोदरा लाया जा चुका है। इन पुलिस कर्मियों को उनकी ड्यूटी की जगह भी दे दी गई है लेकिन यह पाया गया है कि उनके ड्यूटी स्थान पर तंत्र द्वारा पानी या भोजन की कोई ठोस व्यवस्था नहीं की गई है. भीषण गर्मी में ड्यूटी पर तैनात पुलिसकर्मी दूसरे जिले के शहरों से होने के कारण शहर से अनजान हैं लेकिन उनके खाने पीने की भी ठीक से व्यवस्था नहीं की गयी है।

पीएम मोदी 100 एकड़ भूमि पर बनने वाले सेंट्रल यूनिवर्सिटी के नए कैंपस का करेंगे भूमि पूजन

Your email address will not be published.