अवैध अमेरिका प्रवेश के चक्कर में मारे गए चार गुजरातियों के मामले में 6 आरोपी गिरफ्तार

| Updated: January 28, 2022 1:02 pm

पुलिस अधिकारी झाला ने कहा, "मानव तस्करी का गठजोड़ गहरा है, जिसमें अक्सर स्थानीय राजनेता भी शामिल होते हैं," यह कहते हुए कि लोग संयुक्त राज्य या कनाडा जाने के प्रयासों के लिए अपनी जमीन और घर भी बेचते हैं।

कनाडा अमेरिका सीमा में अवैध प्रवेश की कोशिश के दौरान मृत पाए गए 4 लोंगो की पहचान आधिकारिक तौर से स्थापित हो गयी है | चारों मृतक पूर्व शंका के मुताबिक गुजरात के डिगुचा गांव के ही निवासी थे | वही अहमदाबाद अपराध शाखा ने इस मामले में 6 आरोपियों को गिरफ्तार किया है जो टूर्स एंड ट्रेवल्स के व्यवसाय से जुड़े हुए हैं पुलिस सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक संयुक्त राज्य अमेरिका और कनाडा के बीच सीमा के पास चार भारतीयों को मौत के घाट उतारे जाने के बाद भारतीय पुलिस ने अवैध आव्रजन पर कार्रवाई में छह लोगों को हिरासत में लिया है।

पश्चिम में बेहतर जीवन और नौकरी के अवसरों की तलाश में कठोर मौसम की स्थिति का सामना करते हुए, सैकड़ों भारतीय, ज्यादातर पश्चिमी राज्यों पंजाब और गुजरात से, हर साल यूएस-कनाडा सीमा पार करने का प्रयास करते हैं।

यह भी पढ़े गुजरात के पूर्व उपमुख्यमंत्री नीतिन पटेल ने माना “युवाओं के लिए यंहा भविष्य उज्व्वल नहीं, इसलिए जाते हैं विदेश”
।पुलिस अधिकारी ए.के. झाला राज्य की राजधानी गांधीनगर में कहा कि सीमा पर कानून प्रवर्तन एजेंसियों द्वारा पासपोर्ट और अन्य सामानों की तस्वीरें उपलब्ध कराने के बाद, उन्होंने एक ही परिवार से संबंधित चारों की पहचान की।उन्होंने कहा कि पुलिस द्वारा हिरासत में लिए गए छह लोग राज्य में एक ट्रैवल एंड टूरिज्म कंपनी चला रहे थे। वही अमेरिकी अधिकारियों ने भी एक अमेरिकी व्यक्ति को मानव तस्करी के आरोप में गिरफ्तार किया है

यह भी पढ़े -गुजरातियों के “अमेरिकन ड्रीम” का आइडिया मौत के मुंह में समा गया
कनाडा के मैनिटोबा प्रांत मिनेसोटा सीमा के उत्तर में कुछ गज की दूरी पर मृत पाए गए चारो व्यक्तियों की पहचान स्थापित हो गयी है | जिसमे जगदीश बलदेवभाई पटेल, वैशालीबेन जगदीशकुमार पटेल, विहंग जगदीशकुमार पटेल और धार्मिक जगदीशकुमार पटेल सभी एक ही परिवार के सदस्य है| 19 जनवरी को अमेरिका-कनाडा सीमा से लगभग 12 मीटर दूर इमर्सन, मैनिटोबा के पास मृत पाए गए थे।

इससे पहले, अधिकारियों ने कहा था कि परिवार में एक वयस्क पुरुष, वयस्क महिला, किशोर पुरुष और शिशु शामिल हैं। लेकिन अब यह पता चला है कि पीड़ितों में एक युवा लड़की शामिल है न कि एक किशोर पुरुष। कनाडा के अधिकारियो द्वारा 26 जनवरी को पीडितो की पहचान की पुष्ठी की और शव की जाच की प्रक्रिया पूरी की गयी|

अधिकारियों ने कहा कि वे 18 लोगों के समूह से अलग हो गए थे और संभवत: एक बर्फ़ीले तूफ़ान में फंस गए थे|

यह भी पढ़ेएक परिवार के 4 सदस्य यूएस कनाडा सीमा के पास मिले मृत
पुलिस अधिकारी झाला ने कहा, “मानव तस्करी का गठजोड़ गहरा है, जिसमें अक्सर स्थानीय राजनेता भी शामिल होते हैं,” यह कहते हुए कि लोग संयुक्त राज्य या कनाडा जाने के प्रयासों के लिए अपनी जमीन और घर भी बेचते हैं।
भारत की राजधानी नई दिल्ली में विदेश मंत्रालय के एक अधिकारी ने कहा कि अधिकारी अवैध आव्रजन मामले की जांच के लिए संयुक्त राज्य अमेरिका और कनाडा में सीमा अधिकारियों के साथ समन्वय कर रहे हैं।

Your email address will not be published.