आप के ” शिक्षा जाल ” में फसी भाजपा ,शिक्षामंत्री के यहा ही बदहाल स्कूल

| Updated: April 11, 2022 4:04 pm

शिक्षा व्यवस्था पर भाजपा सरकार और शिक्षा मंत्री जीतू वाघाणी को घेरने में जुटी आम आदमी पार्टी सफल होती नजर आ रही है। शिक्षा मंत्री के निर्वाचन क्षेत्र के सरकारी स्कूल की तस्वीर निश्चित तौर से भाजपा की शासन व्यवस्था पर सवाल उठाने वाली है , अभी फिलहाल आम आदमी पार्टी के “शिक्षा जाल ” शिक्षा व्यवस्था पर भाजपा सरकार और शिक्षा मंत्री जीतू वाघाणी को घेरने में जुटी आम आदमी पार्टी सफल होती नजर आ रही है।

शिक्षा मंत्री के निर्वाचन क्षेत्र के सरकारी स्कूल की तस्वीर निश्चित तौर से भाजपा की शासन व्यवस्था पर सवाल उठाने वाली है , अभी फिलहाल आम आदमी पार्टी के “शिक्षा जाल ” में गुजरात भाजपा फसती दिख रही है ,हालांकि पलटवार में माहिर भाजपा किस तरह जवाब देगी इसका इंतजार रहेगा। दिल्ली मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल ने भी ट्ववीट कर सवाल खड़े किये हैं।

दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया आज गुजरात के दौरे पर हैं. उन्होंने राज्य के शिक्षा मंत्री के गृहनगर भावनगर में

सरकारी विद्यालयों का निरीक्षण किया. उसके बाद मनीष सिसोदिया ने कहा कि गुजरात के शिक्षा मंत्री ने अहंकार से कहा था कि हमने गुजरात के स्कूलों को इतना अच्छा बनाया है कि किसी को चिंता करने की जरूरत नहीं है.

अगर किसी को यह पसंद नहीं है तो वह गुजरात छोड़ सकता है। लेकिन आज मैंने भावनगर के दो स्कूलों का दौरा किया है।

भावनगर में दो स्कूलों का दौरा करने के बाद, दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा, “दो स्कूलों का दौरा करना दुखद था। बच्चों के बैठने के लिए बेंच नहीं है, बेंच दूर की बात है फर्श भी नहीं है। बच्चियों के लिए शौचालय अच्छा नहीं है, अगर शिक्षक पांच-छह घंटे आते हैं तो बच्चे किसी तरह से पढ़ रहे होंगे. स्कूल का कोई कोना ऐसा नहीं है जहां मकड़ी के जाले न हों।

उन्होंने कहा कि गुजरात भाजपा ने एक महीने के लिए प्रवासी शिक्षक की नई परंपरा शुरू की है। फिलहाल यह पता नहीं चल पाया है कि वह पद छोड़ने के बाद क्या करेंगे। दिल्ली में एक अतिथि शिक्षक भी है जो एक स्थायी शिक्षक की तरह है।

उन्होंने जोर देकर कहा कि गुजरात में शिक्षा के नाम पर मजाक बनाया जा रहा है, वे सरकारी स्कूल नहीं चलाना चाहते. अगर बीजेपी 27 साल से सत्ता में होने के बावजूद व्यवस्था ठीक नहीं कर सकती तो उसे शासन छोड़ देना चाहिए।

सिसोदिया ने कहा, “आपने गुजरात के लिए लड़ाई लड़ी, महानगर के लिए नहीं।” आप स्थायी रूप से आउटसोर्सिंग करते रहें या नहीं यह एक और मुद्दा है लेकिन एक महीने के प्रवासी शिक्षक फिर कहा जायेगे ? उन्होंने अपने निर्वाचन क्षेत्र में आकरस्कूल और मोहल्ला क्लीनिक देखने की चुनौती दी ।

जीतू वाघाणी के निर्वाचन क्षेत्र में ही छात्रों के बैठने की व्यवस्था नहीं ,स्कूल की दीवार टूटी -मनीष सिसोदिया

Your email address will not be published.