आरबीआई के रेपो रेट अचानक बढ़ा देने से विशेषज्ञ हैरान, हाउसिंग सेक्टर के लिए बड़ा झटका

| Updated: May 6, 2022 5:53 pm

भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने बुधवार को जोर का झटका और जोर से देते हुए घोषणा की कि उसकी मौद्रिक नीति समिति (एमपीसी) ने रेपो दर में वृद्धि का फैसला किया है। रेपो रेट यानी रिजर्व बैंक द्वारा अन्य बैंकों को दिए जाने वाले कर्ज की दर को तत्काल प्रभाव से 40 आधार अंकों से 4.40% तक बढ़ा दिया गया है। ऐसी बढ़ोतरी एक अगस्त 2018 के बाद पहली बार हुई है

। बिना सोचे समझे उठाए गए आरबीआई के इस कदम से विशेषज्ञ हैरान हैं। उनके मुताबिक, यह “वर्तमान सरकार के काम करने के तरीके का” एक और उदाहरण है। इतना ही नहीं, केंद्रीय बैंक ने 21 मई से प्रभावी नकद आरक्षित अनुपात (सीआरआर) को भी 50 आधार अंकों से बढ़ाकर 4.5% कर दिया।


आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास की अचानक घोषणा ने सभी को आश्चर्यचकित कर दिया है। इसलिए कि उन्होंने अभी इसके लिएर जो कारण गिनाए हैं, उन्हीं कारणों को उन्होंने अप्रैल के पहले सप्ताह में एमपीसी की आखिरी निर्धारित बैठक के बाद भी बताया था।

तब उन्होंने उन कारणों को रेपो रेट में वृद्धि नहीं करने के लिए गिनाया था। लेकिन बुधवार की बैठक को आश्चर्यजनक रूप से आपातकालीन घटना के रूप में वर्णित किया गया, जबकि विशेषज्ञों की नजर में कुछ भी नहीं बदला है। बता दें कि मौद्रिक नीति की समीक्षा के लिए अगली बैठक भी तब जून के लिए निर्धारित की गई थी।
वाइब्स ऑफ इंडिया से बात करते हुए गुजरात के अर्थशास्त्री प्रो. हेमंतकुमार शाह ने आरबीआई गवर्नर द्वारा उद्धृत कारणों का उल्लेख किया और कहा, “मार्च के दौरान खुदरा महंगाई की दर 6.95% थी, जबकि हेडलाइन मुद्रास्फीति (थोक मूल्य सूचकांक के आधार पर) दर 13.11% के आसपास थी। इतना ही नहीं, दिसंबर में हेडलाइन मुद्रास्फीति 13.65% थी।


प्रोफेसर शाह पूछते हैं, “ऐसा कैसे है कि आरबीआई को आज अचानक यह सब पता चला?” उन्होंने बताया कि एमपीसी का गठन 2016 में एक कानूनी संशोधन द्वारा किया गया था, ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि केवल आरबीआई गर्वनर के बजाय एक विशेषज्ञ पैनल हो, जो नीतियों की समीक्षा करे।


शाह ने आश्चर्य जताया, “ऐसा क्यों है कि इस समिति के सदस्यों में से किसी को भी अप्रैल वाल पिछली बैठक में स्थिति का एहसास नहीं हुआ, जब खुदरा महंगाई दर “कुछ समय के लिए 6% से अधिक थी।”
उन्होंने कहा कि 2016 में ही तय किया गया था कि खुदरा महंगाई को 2% से 6% पर नियंत्रण में रखा जाना चाहिए। पूछे जाने पर अर्थशास्त्री ने कहा कि खुदरा महंगाई “आज या कल नहीं,” बल्कि लंबे समय से 6% पर चल रही है।


शाह पूछते हैं, “महंगाई के रुझानों की जांच के लिए रेपो दर में वृद्धि की आवश्यकता लंबे समय से थी और वे इसे भागों में करके इस भारी वृद्धि से बच सकते थे। यह अचानक वेक-अप कॉल क्यों? या राजनीतिक नेतृत्व ने उन्हें तब तक रोके रखा, जब तक कि इसे संभालना बहुत मुश्किल न हो जाए?”


सरदार पटेल इंस्टीट्यूट ऑफ इकोनॉमिक एंड सोशल रिसर्च से जुड़े गुजरात के एक अन्य अर्थशास्त्री ने नाम न छापने का अनुरोध करते हुए कहा, “यह आज या एक सप्ताह की बात नहीं है। रूस-यूक्रेन युद्ध को अब दो महीने से अधिक हो गए हैं और बाधित वैश्विक आपूर्ति श्रृंखला उसी तरह जारी है जैसे एक महीने पहले (जब पिछली एमपीसी बैठक हुई थी)।


प्रोफेसर शाह के साथ सहमति जताते हुए इस अर्थशास्त्री ने यह भी कहा, “कोर मुद्रास्फीति लंबे समय से 6% से अधिक रही है, लेकिन कुछ रहस्यमय कारणों से आरबीआई ने इसे अनदेखा किया।”


इस बीच, अपनी स्थिति स्पष्ट करते हुए आरबीआई गवर्नर ने जोर देकर कहा, “एमपीसी ने आवास की वापसी पर ध्यान केंद्रित करते हुए समायोजन बनाए रखने का भी फैसला किया, ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि विकास का समर्थन करते हुए महंगाई लक्ष्य के भीतर बनी रहे।”


यह बताते हुए कि मार्च में खाद्य मुद्रास्फीति के पीछे-पीछे हेडलाइन मुद्रास्फीति में भी 7% की तेज वृद्धि हो गई। दास ने कहा, “मार्च में 12 खाद्य उपसमूहों में से नौ ने मुद्रास्फीति में वृद्धि दर्ज की।

अप्रैल के लिए उच्च आवृत्ति मूल्य संकेतक खाद्य कीमतों के दबाव के बने रहने का संकेत देते हैं।”

साथ ही कहा कि आने वाले महीनों में कोर मुद्रास्फीति अधिक रहेगी। गौरतलब है कि हेडलाइन मुद्रास्फीति, महंगाई का कच्चा आँकड़ा है जो कि उपभोक्ता मूल्य सूचकांक (सीपीआई) के आधार पर तैयार की जाती है।

हेडलाइन मुद्रास्फीति में खाद्य और ईंधन की कीमतों में होने वाले उतार-चढ़ाव को भी शामिल किया जाता है। कोर मुद्रास्फीति वह है, जिसमें खाद्य और ईंधन की कीमतों में होने वाले उतार-चढ़ाव को शामिल नहीं किया जाता है।


रेपो रेट में भारतीय रिजर्व बैंक की बढ़ोतरी घर खरीदारों के लिए एक झटके की तरह है, जो सर्वकालिक कम ब्याज व्यवस्था के कारण कोविड संकट से उबर रहे थे और इसने महामारी के दौरान भी देश में घरेलू बिक्री चलने दिया था।

आरबीआई ने बढ़ाई रेपो दर: महंगा होगा होम लोन,सेंसेक्स में 1182 अंक की गिरावट

Your email address will not be published.