गुजरात पुलिस ने जब्त की 73.6 लाख रुपये की अंबरग्रीस यानी ‘व्हेल उल्टी’, छह गिरफ्तार

| Updated: May 21, 2022 11:54 am

गुजरात के आणंद जिले में स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप (एसओजी) ने 74 लाख रुपये की व्हेल वोमिट (अंबरग्रीस) के साथ छह लोगों को पकड़ा है। सभी सौदागर फिलहाल आनंद एसओजी की हिरासत में हैं और विभाग ने उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई की है। मोम जैसे दिखने वाले अंबरग्रीस का इस्तेमाल इत्र और दवा बनाने में होता है। यह व्हेल की आंत में पाया जाता है।

19 मई को पुलिस इंस्पेक्टर एसओजी जीएन परमार, पीएसआई एचएम राणा और अन्य पुलिसकर्मी आणंद के पुलिस अधीक्षक के निर्देशों पर गश्त पर थे। एसपी ने एसओजी टीम को रात में कस्बे में गश्त करने का आदेश दिया था। बाद में पीओ संदीप कुमार और पीसीओ भगगीद सिंह को एक ग्रे स्विफ्ट डिजायर के बारे में जानकारी मिली, जो व्हेल वोमिट जैसी मूल्यवान वस्तुओं को ले जा रही थी और बेच रही थी।

सौदागरों ने आणंद में 80 फीट सड़क पर कार खड़ी कर दी। सूचना पर आणंद एसओजी की टीम मौके पर पहुंची। उन्हें GJ 06 JM 0505 नंबर प्लेट के साथ एक ग्रे स्विफ्ट डिजायर मिली। बाद में जांच के दौरान पुलिस को कार की पिछली सीट पर अंबरग्रीस के टुकड़े मिले। इसके बाद एसओजी टीम ने अंबरग्रीस तस्करी में शामिल वाहन के साथ उन लोगों को गिरफ्तार कर लिया।

आणंद स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप ने तस्करों को दंड प्रक्रिया संहिता (सीआरपीसी) की धारा 41(1)डी के तहत गिरफ्तार किया है। पीएसआई हरदीप सिंह राणा ने टीम वीओआई को बताया, “हमें वह मूल स्थान नहीं मिला है जहां से पेडलर्स को अंबरग्रीस मिला था। हालांकि, हम अभी भी मामले की जांच कर रहे हैं। मई और जून वह समय होता है जब ऐसी घटनाएं सामने आती हैं। लंबे समय तक चलने वाले डिओडोरेंट्स के निर्माण में इसके उपयोग के कारण यह मूल्यवान और मांग में अधिक है।”

मामले में गिरफ्तार किए गए आरोपियों में गिरीर चड्ढा उलाल गांधी, धिक्रम वीरेंद्रभाई पाड़िया, मीत यिरभाई गांधी, मीत नीलकमल हयास और धृधुल कुमार पटेल हैं। ये वडोदरा और आणंद के रहने वाले हैं। प्रारंभिक जांच में पुलिस ने 73,60,000 रुपये की अंबरग्रीस, 16,000 रुपये की कीमत का एक मोबाइल नंबर, 2,50,000 रुपये की स्विफ्ट डिजायर और 76,26,000 रुपये की अन्य कीमती चीजें जब्त की हैं।

अंबरग्रीस: व्हेल वोमिट

अंबरग्रीस, जिसे फ्लोटिंग गोल्ड के रूप में भी जाना जाता है, फ्रेंच में ग्रे अंबर होता है। यह एक मोम जैसा पदार्थ है जो व्हेल के शुक्राणु द्वारा उसके पाचन तंत्र के माध्यम से मल की गंध के साथ निर्मित होता है। इस समुद्री उत्पाद की बनावट हल्के पीले रंग से भिन्न होती है, जो ताजा से लाल-भूरा और कभी-कभी भूरा-काला होता है।

अंबरग्रीस का मूल्य इसके लाभों में निहित है। भारत भर में जांच एजेंसियां आमतौर पर गर्मी के मौसम में व्हेल की उल्टी को पकड़ लेती हैं। हालांकि, यह उल्लेखनीय है कि गुणवत्ता के आधार पर इस पदार्थ की प्रति किलोग्राम लागत लगभग एक करोड़ रुपये है।

अमेरिका और ऑस्ट्रेलिया जैसे कई देशों ने इस वस्तु के आयात-निर्यात पर प्रतिबंध लगा दिया है। भारत में भी अंबरग्रीस का व्यापार करना गैरकानूनी है। वन्यजीव संरक्षण अधिनियम की अनुसूची II के तहत व्हेल एक संरक्षित प्रजाति है। इसके अलावा, वन्यजीव संरक्षण अधिनियम, 1972 के तहत अंबरग्रीस सहित शुक्राणु व्हेल के किसी भी उप-उत्पाद का कब्ज़ा या व्यापार अवैध है। तस्कर तटीय क्षेत्रों से अंबरग्रीस इकट्ठा करने और इसे कम या बिना किसी प्रतिबंध वाले देशों में व्यापार करने के पैटर्न का पालन करते हैं।

Your email address will not be published.