पाकिस्तान की राष्ट्रीय सुरक्षा नीति कहती है- मुझे ध्यान से पढ़ो, मैं चोटिल हूं, आखिर भारत के लिए क्या मतलब है इसका

| Updated: January 15, 2022 4:12 pm

पाकिस्तानी प्रतिष्ठान के गंभीर नीतिगत बयान को भी बकवास कहकर खारिज कर देना सुविधाजनक, सुरक्षित और फायदेमंद है। पुरानी बोतल में पुरानी शराब (उफ, लस्सी)। भारत को लेकर ऐसा लंबे समय से अपने आप होता चला आ रहा है। यदि अधिक अशिष्टता से कहें तो यह दरअसल पाकिस्तानियों की फितरत है। शुक्रवार को जारी पाकिस्तानी राष्ट्रीय सुरक्षा प्रभाग के नवीनतम राष्ट्रीय सुरक्षा नीति दस्तावेज को देखते हुए हम उस तरह के लोभ को नजरअंदाज कर रहे हैं।

दस्तावेज़ के गंभीर अध्ययन की सराहना करने के तीन कारण हैं। पहला कि यह छोटा है, बड़े, सुपाठ्य प्रकार में केवल 48 पन्ने में है। और भी बहुत कुछ है, लेकिन वह गोपनीय है। इसलिए धन्यवाद। दूसरा, इसमें से अधिकांश सिर्फ अगंभीर और अफलातून किस्म के हैं। इसलिए छोड़ना आसान है, और इसके लिए फिर से धन्यवाद। और तीसरा, इसमें अभी भी इस बात की उम्मीद है कि भारतीय पक्ष में कोई भी व्यक्ति इस पर विचार करने और बहस करने के लिए मिल सकता है।

यह तभी संभव है कि जबकि आप केवल हमारे जांबाज चैनलों पर होने वाली बहसों में भाग लेते हों। लेकिन उस ‘दुष्ट प्रतिष्ठान’ ने जो लिखा है उसे पढ़कर भी परेशान क्यों हों। उन्हें कौन गंभीरता से लेता है?

चाणक्य ने इस पर क्या कहा होगा, यह बताने के लिए हमारे पास ज्ञान नहीं है। सन त्जु और कन्फ्यूशियस की तरह उन्हें इतना जिम्मेदार ठहराया गया है, कि कल्पना से तथ्य बताना असंभव है। हम सावधानी से चलेंगे और पूर्व शीर्ष सिविल सेवक और सुविचारित नेता अनिल स्वरूप से एक विचार उधार लेंगे, जो #Chankyadidntsay हैशटैग के साथ तीखे ट्वीट करते हैं। यहां एक और बात है जो चाणक्य ने निश्चित रूप से चंद्रगुप्त से फुसफुसाते हुए नहीं कही, या उनके किसी भी ग्रंथ में नहीं लिखा: कभी भी अपने विरोधी से बात न करें, उनके कहे पर न जाएं, और निश्चित रूप से उनके द्वारा प्रकाशित कुछ भी न पढ़ें, खासकर उनकी रणनीतिक दृष्टि पर। इसके विपरीत चाणक्य चाहते थे कि हम भारतीय इसका गहन अध्ययन करें। भले ही यह बड़े टाइप में महज 48 पेज का और कश्मीर पर ठीक 113 शब्दों वाला हो।

इस दस्तावेज़ से भूसे को हटाना आसान है। चूंकि यह सबसे ज्यादा है। लेकिन अगर आप पाकिस्तानी प्रतिष्ठान के लिए हमारी पुरानी धारणा को लेकर अपनी जिज्ञासा को दबा देते हैं, तो आपको ये पांच दाने मिल सकते हैं। आइए इन पर बारी-बारी से कुछ विस्तार से जानें।

• यह हैरान करता है कि इस योजना दस्तावेज के छोटे-से खंड में भी कश्मीर पर केवल 113 शब्द हैं। और इसमें जो कुछ है, वह उससे कम महत्वपूर्ण नहीं है जो इसमें नहीं है। प्रारंभ में, जम्मू और कश्मीर की स्थिति में भारत द्वारा किए गए 5 अगस्त 2019 के परिवर्तनों को वापस लेने की कोई मांग नहीं है। क्या इसका मतलब यह है कि पाकिस्तान सामान्य स्थिति की बहाली के लिए इमरान खान की बार-बार दोहराई जाने वाली पूर्व शर्त से दूर जा रहा है? या हो सकता है कि भारत में प्रचलित धारणा के अनुसार, इमरान इतने मंद हों कि उन्होंने योजना को पढ़ा तक नहीं है? वैसे, उन्होंने इसकी प्रस्तावना लिखी है। उन्हें पिछले साल की शुरुआत में भी पीछे कर दिया गया था, जब उनकी सेना ने भारत के साथ व्यापार को फिर से शुरू करने के विचार का समर्थन किया था। उन्होंने कहा था, पहले कश्मीर पर मेरी पूर्व शर्त पूरी करो । लेकिन उनके राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार मोईद यूसुफ द्वारा हस्ताक्षरित यह दस्तावेज इससे विपरीत दिशा की ओर जाता है।

फिर वह कश्मीर पर चाहते क्या हैं? यह मुझे 1991 में पहली बार प्रधानमंत्री बनने के तुरंत बाद नवाज शरीफ के साथ इंडिया टुडे के लिए मेरे पहले इंटरव्यू की याद दिलाता है। उन्होंने सभी मुद्दों पर सवाल किए गए। लेकिन जब मैंने उनसे कश्मीर के बारे में पूछा, तो उन्होंने अपने सूचना सलाहकार मुशाहिद हुसैन (अब एक सीनेटर) की ओर रुख किया। फिर एक आकर्षक मुस्कराहट के साथ कहा, ‘कश्मीर पर मुशाहिद साहिब, वो क्या कहते हैं हम, आप ही बताते हैं, वह कौन सी लाइन है जिसे हम हमेशा बोलते हैं? आप इसे बेहतर तरीके से दोहरा दें। मुशाहिद हुसैन ने जो बिल्कुल वही कहा, मैं उसे दोहरा नहीं सकता। लेकिन यह लगभग 113 शब्दों में फिट हो जाएगा। कमोबेश वही शब्द जो इस दस्तावेज़ में हैं। इमरान 2019 से नवाज 1991 तक यह महत्वपूर्ण वापसी की यात्रा है। आप कश्मीर पर उस पैरे को यहां पढ़ सकते हैं।

• राष्ट्रीय सुरक्षा के मुख्य आधार के रूप में अर्थव्यवस्था पर जोर देना दिलचस्प है। हम देख सकते हैं कि पाकिस्तान आंतरिक अस्थिरता और वैश्विक उदासीनता से आर्थिक रूप से नुकसान झेल रहा है। यह ठीक उन हफ्तों में होता है जब हम स्वीकृत ऋण से आगे के वितरण के लिए आईएमएफ के साथ अपमानजनक बातचीत में शामिल होते हैं। 1993 के बाद से पाकिस्तान का 11वां है। जैसा कि हम जानते हैं कि इमरान ने इस सप्ताह की शुरुआत में कहा था कि पाकिस्तान की अर्थव्यवस्था भारत की तुलना में बेहतर स्थिति में है, लेकिन वह निश्चित रूप से आईएमएफ से ऐसा नहीं कह रहा है। पाकिस्तान के लिए महंगाई और उससे पैदा आक्रोश के मद्देनजर अपनी ‘शर्तों’ को पूरा करना बहुत कठिन लग रहा है। इसने आईएमएफ बोर्ड की बैठक को इस महीने के अंत तक स्थगित करने के लिए कहा है। इसलिए कि उसे इस सबके लिए खैरात को खोने या वस्तुओं, उपयोगिताओं, टैक्स, कीमतें बढ़ाने और अपने केंद्रीय बैंक की स्वायत्तता की गारंटी देने वाला एक नया कानून पारित करने का जोखिम उठाना पड़ेगा।

अर्थव्यवस्था पर यह जोर, आंतरिक स्थिरता, कट्टरपंथी संघर्ष और आंतरिक अलगाववादी आंदोलनों से खतरे को और बढ़ा सकता है, जैसा कि हम तीन दशकों से पाकिस्तान में देखते आ रहे हैं।

Your email address will not be published.

Plate