सेबी प्रमुख से संसदीय समिति ने की रूचि सोया , सहारा मामले में पूछतांछ

| Updated: April 6, 2022 1:55 pm

भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड (सेबी) की अध्यक्ष माधबी पुरी बुच सहारा मामले, एनएसई विवाद, पेटीएम के शेयर प्रस्तावों और रुचि सोया के पतंजलि के अधिग्रहण पर पूछताछ के लिए एक संसदीय पैनल के सामने पेश हुईं।

पूर्व वित्त राज्य मंत्री जयंत सिन्हा ने वित्त मंत्रालय की संसदीय स्थायी समिति की बैठक की अध्यक्षता की। यह बैठक ढाई घंटे से अधिक समय तक चली , जिसमें क्रिप्टोकरेंसी पर सवाल उठाए गए।

लोकसभा सचिवालय द्वारा जारी एक नोटिस के अनुसार, समिति ने अंतरराष्ट्रीय वित्तीय सेवा केंद्रों, प्रारंभिक सार्वजनिक पेशकश और वैकल्पिक निवेश कोष से संबंधित नियामक मुद्दों पर विचार करने के लिए बुच को बुलाया था।

इससे पहले दिन में, पल्स एग्रो कॉरपोरेशन लिमिटेड (पीएसीएल) के निवेशकों को पैसा वापस करने में अब तक की प्रगति पर संसदीय समिति द्वारा नव नियुक्त सेबी प्रमुख से भी पूछताछ की गई थी।

दिसंबर 2015 में, सेबी ने पीएसीएल और उसके नौ प्रमोटरों और निदेशकों की सभी संपत्तियों को कुर्क करने का आदेश दिया था क्योंकि वे निवेशकों के पैसे वापस करने में विफल रहे थे।

सदस्यों ने एनएसई की गड़बड़ी में सेबी द्वारा की जा रही जांच के बारे में कई सवाल पूछे, जिसमें पूर्व मुख्य कार्यकारी अधिकारियों (सीईओ) चित्रा रामकृष्ण और रवि नारायण सहित कई शीर्ष अधिकारियों की जांच की जा रही है।

कई सदस्यों ने पेटीएम आईपीओ, रुचि सोया के फॉलो ऑन पब्लिक ऑफर (एफपीओ) और पूंजी बाजार नियामक के पास पड़े सहारा मामले से जुड़े पैसे के बारे में भी सवाल पूछे।

28 मार्च को सेबी ने रुचि सोया के बैंकरों से कहा था कि वह अपने एफपीओ में निवेशकों को अपनी बोलियां वापस लेने का विकल्प दें। पेटीएम के मामले में मेगा इनिशियल पब्लिक ऑफर (आईपीओ) के बाद उसके शेयरों में गिरावट आई है।

चिलचिलाती गर्मी की मांग को लेकर आंदोलन कर रहे युवा विद्या सहायक भर्ती

Your email address will not be published. Required fields are marked *