पटियाला में दो समूहों में झड़प के बाद हिंसा, तीन अफसर हटाए गए

| Updated: April 30, 2022 8:08 pm

पंजाब के पटियाला में शुक्रवार दोपहर दो समूहों के बीच झड़प के बाद हिंसा भड़क गई। तनाव अभी तक है। मुख्यमंत्री भगवंत मान ने इस घटना को दुर्भाग्यपूर्ण कहा है। साथ ही राज्य में किसी को भी अशांति पैदा नहीं करने देने की कसम खाई है। झड़पें तब हुईं, जब खुद को शिवसेना (बाल ठाकरे की) कार्यकर्ता बताने वालों के एक समूह ने जुलूस निकाला। इसी दौरान उस समूह का खालिस्तान समर्थक कहे जाने वालों के साथ आमना-सामना हो गया।

दो गुटों में हुई भिड़ंत में दो पुलिसकर्मियों समेत चार लोग घायल हो गए। हिंसा को बड़े पैमाने पर नहीं भड़कने देने के मकसद से पंजाब सरकार ने शनिवार की सुबह वॉयस कॉल को छोड़कर सभी मोबाइल इंटरनेट और एसएमएस सेवाओं को दिन भर के लिए बंद कर दिया।

जिले में हिंसा को नियंत्रित करने में विफल रहने पर पुलिस विभाग के तीन शीर्ष अधिकारियों को हटा दिया गया है। सीएम भवंत मान की सरकार ने राज्य पुलिस को सख्त कार्रवाई की हिदायत दी है। मुख्यमंत्री भगवंत मान के आदेश के बाद जिन पुलिस अधिकारियों को हटा दिया गया है, उनमें पटियाला रेंज के आईजी, एसएसपी और एसपी हैं। मुख्यमंत्री पटियाला में हुई हिंसा में पुलिस की भूमिका से परेशान हैं।

मुख्यमंत्री ने कहा, “पटियाला में झड़प की घटना बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है। मैंने डीजीपी (पुलिस प्रमुख) से बात की है। क्षेत्र में शांति बहाल कर दी गई है। हम स्थिति की बारीकी से निगरानी कर रहे हैं और किसी को भी राज्य में अशांति पैदा नहीं करने देंगे। पंजाब के लिए शांति और सद्भाव अत्यंत महत्वपूर्ण है।”

पुलिस के मुताबिक, शिवसेना (बाल ठाकरे) के सदस्यों ने बिना पुलिस की अनुमति के मार्च निकाला था। दोनों गुटों के सदस्यों ने तलवारें लहराईं और एक-दूसरे पर पथराव किए।

जिला प्रशासन ने भी निवासियों से शांति और सद्भाव बनाए रखने की अपील की है। साथ ही दोनों समूहों से बातचीत के माध्यम से अपने “विवाद या गलतफहमी” को हल करने का अनुरोध किया है।

पटियाला की जिला आयुक्त साक्षी साहनी ने एक बयान में कहा, “शांति और सद्भाव सभी धर्मों के केंद्र में है। कोई विवाद या गलतफहमी भी हो, तो उसे बातचीत से ही हल करना महत्वपूर्ण होता है। ऐसे में, जिला प्रशासन पटियाला और पंजाब के सभी भाइयों और बहनों से शांति बनाए रखने की अपील करता है। वर्तमान स्थिति नियंत्रण में है और लगातार निगरानी की जा रही है। शांति और सद्भाव सुनिश्चित करने के लिए सभी उपाय किए जा रहे हैं। “

यह भी पढ़ें

कायर सरकार ने मुझे फ़साने के लिए महिला का उपयोग किया -मेवाणी

Your email address will not be published.