6.5 अरब डॉलर के उपभोक्ता सामान कारोबार के निर्माण के लिए रिलायंस ने गड़ाया ब्रांडों पर नजर

| Updated: May 17, 2022 12:08 pm

देश की सबसे बड़ी रिटेलर रिलायंस (Retailer Reliance) दर्जनों छोटे किराना और गैर-खाद्य ब्रांडों का अधिग्रहण करेगी क्योंकि यह यूनिलीवर जैसे विदेशी दिग्गजों को चुनौती देने के लिए अपने स्वयं के $ 6.5 बिलियन के उपभोक्ता सामान व्यवसाय का निर्माण करने का लक्ष्य रखती है।

योजना से संबंधित दो सूत्रों ने रायटर को इसकी जानकारी दी।


मुकेश अंबानी (Mukesh Ambani) की अगुवाई वाली रिलायंस ने छह महीने के भीतर 50-60 किराना, घरेलू और व्यक्तिगत देखभाल ब्रांडों (personal care brands) का एक पोर्टफोलियो बनाने की योजना बनाई है और वितरकों के एक सर्किल को देश भर में मॉम-एंड-पॉप स्टोर और बड़े खुदरा दुकानों में ले जाने के लिए काम पर रखा है, सूत्रों ने बताया।


रिलायंस रिटेल कंज्यूमर ब्रांड्स (Reliance Retail Consumer Brands) नाम के एक वर्टिकल के तहत कंज्यूमर गुड्स पुश अंबानी के 2,000 से अधिक किराना आउटलेट्स के ब्रिक-एंड-मोर्टार स्टोर नेटवर्क और भारत के लगभग 900 बिलियन डॉलर के रिटेल मार्केट में JioMart ई-कॉमर्स ऑपरेशंस के चल रहे विस्तार के शीर्ष पर आएगा।

30 लोकप्रिय ब्रांडो के साथ बातचीत अंतिम चरण में


रिलायंस लगभग 30 लोकप्रिय आला स्थानीय उपभोक्ता ब्रांडों के साथ बातचीत के अंतिम चरण में है ताकि उन्हें पूरी तरह से हासिल किया जा सके या बिक्री के लिए संयुक्त उद्यम साझेदारी बनाई जा सके, इसकी व्यावसायिक योजना से परिचित पहले सूत्र ने कहा।


ब्रांड हासिल करने के लिए कंपनी द्वारा नियोजित कुल निवेश परिव्यय स्पष्ट नहीं है, लेकिन दूसरे सूत्र ने कहा कि रिलायंस ने पांच साल के भीतर कारोबार से 50,000 करोड़ रुपये (6.5 अरब डॉलर) की वार्षिक बिक्री हासिल करने का लक्ष्य रखा है।

रिलायंस ब्रांडों का घर बन जाएगा


ब्रांड हासिल करने के लिए कंपनी द्वारा नियोजित कुल निवेश परिव्यय स्पष्ट नहीं है, लेकिन दूसरे सूत्र ने कहा कि रिलायंस ने पांच साल के भीतर कारोबार से 50,000 करोड़ रुपये (6.5 अरब डॉलर) की वार्षिक बिक्री हासिल करने का लक्ष्य रखा है। “रिलायंस ब्रांडों का घर बन जाएगा।

यह एक अकार्बनिक खेल है,” सूत्र ने कहा। हालांकि, रिलायंस ने इस संबंध में जवाब नहीं दिया। नई व्यापार योजना के साथ, रिलायंस दुनिया के कुछ सबसे बड़े उपभोक्ता समूहों, जैसे नेस्ले, यूनिलीवर, पेप्सिको और कोका-कोला को चुनौती देने की कोशिश कर रही है, जो भारत में दशकों से काम कर रहे हैं, सूत्रों ने कहा।

भारत के लिए नीदरलैंड 5वां सबसे बड़ा निर्यात गंतव्य बना

Your email address will not be published.