अशोक गहलोत ने किया गुजरात कांग्रेस के प्रचार अभियान को लांच

| Updated: August 18, 2022 9:47 pm

गुजरात कांग्रेस ने विधानसभा चुनाव प्रचार का आगाज कर दिया , जो इस साल के अंत में आयोजित होने है। राजस्थान के मुख्यमंत्री और अखिल भारतीय कांग्रेस समिति के वरिष्ठ पर्यवेक्षक अशोक गहलोत ने दो दिवसीय गुजरात दौरे के अंतिम पड़ाव में अहमदाबाद स्थित कांग्रेस मुख्यालय राजीव भवन में गुजरात कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं की उपस्थिति में कांग्रेस के प्रचार रथ को हरी झंडी दिखा कर रवाना किया , यह रथ गुजरात में घूमकर भाजपा सरकार की विफलता को उजागर करेंगे। 2017 के चुनाव में नजदीकी मुकाबले में सत्ता से वंचित रह गयी कांग्रेस इस बार प्रचार जनता से संवाद और बेहतर चुनाव प्रबंधन पर जोर जोर दिया है।

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने इस दौरान चुनाव घोषणा पत्र अभियान की शुरुआत भी की। घोषणा पत्र समिति गांव गांव सभा कर जनता के मुद्दों को ना केवल जानेगी बल्कि उसे अपने घोषणा पत्र में शामिल भी करेगी।

विदित हो की 2017 में अशोक गहलोत गुजरात के प्रभारी महासचिव थे , उनके कुशल संगठन क्षमता के बल पर भाजपा को 99 सीट पर रोक दिया था जो सत्ता के जादुई आकड़े से महज 7 ज्यादा था। गहलोत पर एक बार फिर भरोसा जताते हुए कांग्रेस नेतृत्व ने उन्हें वरिष्ठ पर्यवेक्षक की जिम्मेदारी दी है , जबकि प्रभारी उनके मंत्रीमंडल के सहयोगी रघु शर्मा को बनाया है।

गुजरात के दो दिवसीय प्रवास के दौरान गहलोत ने कांग्रेस के नेताओ से बैठक के दौरान ” मेरा बूथ मेरा गौरव ” का मंत्र दिया है।

गुजरात विधानसभा चुनाव 2022 में कांग्रेस की जीत का दावा करते हुए राजस्थान के मुख्यमंत्री गहलोत ने कहा कि “ईडी के डर से कोई कारोबारी कुछ नहीं बोल सकता. आज देश पर ईडी का शासन है। कांग्रेस ने राष्ट्रीय स्तर पर बेरोजगारी और महंगाई के मुद्दे उठाए हैं। देश की जनता बेरोजगारी से तंग आ चुकी है। भाजपा सरकार निश्चित वेतन अनुबंध और आउटसोर्सिंग में विश्वास करती है। उनके साथियों को फायदा होता है

गुजरात कांग्रेस से भाजपा में शामिल होने वाले नेताओं पर टिप्पणी गांधीवादी नेता ने कहा कि भाजपा ने खरीद फरोख्त की मंडी खोल रखी है। राजस्थान में भी हमारी सरकार गिराने की कोशिश हुयी लेकिन लोगों के आशीर्वाद और विधायकों के साथ के कारण बच गए , नहीं आज हम भी मुख्यमंत्री के तौर पर आपके सामने नहीं होते। कोरोना के दौरान राजस्थान सरकार के काम की सहरना प्रधानमंत्री ने भी की है यही कांग्रेस मॉडल है।

अशोक गहलोत ने प्रेस कांफ्रेंस में कहा कि पिछली बार हमारी सरकार बनते बनते रह गयी . मणिशंकर अय्यर के बयान का मोदी जी ने गलत तरीके से इस्तेमाल किया। । बॉलीवुड में जिस तरह से अभिनेता अभिनय करते हैं, मोदी जी ने मणिशंकर अय्यर के बयान का इस्तेमाल किया । हम ऐसा नहीं कर सकते। वह हमारी संस्कृति नहीं है। आज संविधान की अनदेखी की जा रही है। उन्हें ( भाजपा को ) गर्व है कि वे धर्म के नाम पर चुनाव जीत रहे हैं।

गुजरात में 27 साल शासन करने के बावजूद लोग परेशान हैं। कोरोना के समय भाजपा कार्यालय से इंजेक्शन बांटे गए। सवालिया लहजे में इस वरिष्ठ नेता ने पूछा ऐसा क्या कारण था कि पूरी सरकार को बदलना पड़ा? क्या वे सब बेकार थे? क्या सब भ्रष्ट थे ?

राजस्थान में शिक्षक द्वारा पानी पीने पर दलित छात्र की हत्या पर टिप्पणी करते हुए कांग्रेस नेता ने कहा की घटना पर छुआछूत के एंगल पर स्थानीय भाजपा विधायक ही सवाल उठा रहा है। इसलिए हमने एडीजी कानून व्यवस्था जो खुद दलित समाज से हैं ,को जांच के लिए भेजा है। गहलोत ने भरोसा जताया की इस बार गुजरात में कांग्रेस की सरकार बनेगी। आम आदमी पार्टी के साथ गठबंधन को काल्पनिक सवाल बताया , साथ ही जल्दी उम्मीदवार घोषित करने का दावा किया।