गौतम परमार की पहल -पीआई और पुलिसकर्मियों को लोगों से सम्मानजनक व्यव्हार के लिए मिलेगा प्रशिक्षण

| Updated: April 18, 2022 4:51 pm

  • अगर अहमदाबाद सिटी पुलिस ने लोगों के साथ सम्मानजनक व्यवहार नहीं किया तो बढ़ेगी प्रशिक्षण अवधि
  • प्रशिक्षण के बाद भी नहीं सुधरे तो कड़ी कार्रवाई के लिए तैयार रहें, शिकायत लेकर ,शिकायतकर्ता को देना होगा उचित जवाब

अगर आप पुलिस स्टेशन में कोई शिकायत लेकर जाते हैं तो अक्सर आपको पुलिस के व्यव्हार से शिकायत होती है , कई बार तो पुलिस कर्मी इस तरह व्यव्हार करते हैं मानों जो आरोपी के साथ भी नहीं किया जाता , शिकायत दर्ज कराना लोहे के चने चबाने जैसा है , पुलिस के व्यवहार से परेशान होकर कई बार शिकायतकर्ता शिकायत भी नहीं करता , सेक्टर-2 के संयुक्त आयुक्त आईजी गौतम परमार को कई शिकायतें मिलीं कि पुलिस लोगों के साथ अच्छा व्यवहार नहीं कर रही है.

भले ही उन्हें नागरिको के कर से ही वेतन मिलता हो ,इसलिए संयुक्त आयुक्त आईजी गौतम परमार ने आम शिकायतकर्ता बन कर पुलिस के व्यवहार की जाँच की लेकिन जल्दी आपको अहमदाबाद पुलिस के व्यव्हार में बदलाव देखने को मिलेगा ,वह ना केवल आपकी शिकायत दर्ज कर उसका समाधान करेंगे बल्कि , आपके साथ बेहतर व्यव्हार करेंगे। उनको विशेष प्रशिक्षण दिया जायेगा। प्रशिक्षण की कार्य योजना तैयार की जा रही है।

उनके साथ अच्छा व्यवहार नहीं होने पर संयुक्त पुलिस आयुक्त की अध्यक्षता में एक समिति गठित की गई और सभी कर्मियों और पुलिस निरीक्षकों को प्रशिक्षित करने की तैयारी की गई है.

पुलिस थानों में शिकायतकर्ताओं को परेशान किया जाता है

पुलिसकर्मियो और पुलिस निरीक्षकों के व्यव्हार में सुधार लाने और उनकी बात सुनने और उनकी शिकायतों का उचित समाधान लाने सहित मुद्दों पर पुलिस द्वारा ध्यान नहीं देने पर सख्त उपाय भी तैयार किए जा रहे हैं.

शहर के पुलिस थानों में शिकायतकर्ताओं को परेशान किया जाता है। पुलिस उन्हें बेरहमी से जवाब देती है। जैसे वह शिकायतकर्ता ना होकर खुद आरोपी हों । ऐसी ही कुछ शिकायतें अहमदाबाद के सेक्टर-2 संयुक्त आयुक्त आईजी गौतम परमार को मिली थीं. वह आए दिन याचिकाकर्ताओं से मिलते थे और पुलिस की बदसलूकी की शिकायत करते थे, लेकिन जब वह पूछते तो थाने के पीआई, एसीपी, डीसीपी घटना से इंकार कर देते ,उनका एक ही जवाब होता शिकायतकर्ता झूठ बोल रहा है। लेकिन आईजी गौतम परमार यह जांचने की तैयारी कर रहे थे कि अगर अलग-अलग लोग इतनी शिकायतें लेकर आते हैं तो हकीकत क्या है ? इतने शिकायतकर्ता तो झूठ नहीं बोल सकते।

आईजी गौतम परमार ने खुद थानों में शिकायतकर्ता बनकर गए तब खुली हकीकत

आईजी गौतम परमार आम आदमी बन गए और उन्हें अपनी भतीजी का रोल एक महिला एलआरडी को दे दिया। उन्होंने फ़िल्मी शैली में कागड़ापीठ थाने का दौरा किया. इस बीच वे कागड़ापीठ थाने के शिकायत कक्ष में पहुंचे और कहा कि उनका दोपहिया वाहन गुम हो गया है, इसलिए पुलिस ने दो दिन तक इधर-उधर तलाशी लेने की बात कही. तब उन्होंने कहा कि उनके वाहन में पासपोर्ट था और वह भी चोरी हो गया है। तो पुलिस उन पर ही हावी हो गयी ,एक पुलिसकर्मी ने कहा तुमने जरूर पासपोर्ट से छेड़छाड़ की होगी तुम्हें उन्हें गिरफ्तार करना होगा।

आम आदमी बने गौतम परमार को पुलिस ने विधिवत हिरासत में ले लिया। हालांकि गौतम परमार ने सेक्टर-2 के ज्वाइंट सीपी होने का दावा किया, लेकिन पुलिस सुनने को तैयार नहीं थी और कहा कि तुम जो भी हो, तुम्हें गिरफ्तार कर लिया जाएगा। हालांकि एसीपी मिलाप पटेल का कार्यालय थाने के पास स्थित है, लेकिन यह स्पष्ट था कि वह भी ध्यान नहीं दे रहे थे ।

शिकायतकर्ता बने गौतम परमार ही बचे गिरफ्तारी से

आखिरकार जेसीपी ने कागड़ापीठ पीआई और के डिवीजन के एसीपी मिलाप पटेल को फोन पर सूचित किया कि कागड़ापीठ पुलिस मुझे गिरफ्तार कर रही है। तब भागते हुए पीआई और एसीपी थाने पहुंचे और शिकायत कक्ष में मौजूद पुलिसकर्मी को पता चला कि ये ज्वाइंट सीपी गौतम परमार ही हैं . तो शिकायत कक्ष में मौजूद पुलिसकर्मियों में हड़कंप मच गया। ज्वाइंट सीपी ने पूछताछ की और दोनों पुलिसकर्मियों को सस्पेंड कर दिया।

अमराईवाड़ी थाने में भी चल रहा था “पुलिस राज “

जब वह अमराईवाड़ी थाने पहुंचे तो शिकायत कक्ष में मौजूद पुलिसकर्मी उनकी भतीजी बनी महिला पुलिसकर्मी की ससुरालवालों के खिलाफ शिकायत लेने के बजाय पुलिसकर्मी ससुराल के पुलिस स्टेशन में जाकर शिकायत दर्ज कराने को कह रही थी खुद शिकायत दर्ज करने से बच रही थी . अमराईवाड़ी थाने में खुद जोन-5 डीसीपी अचल त्यागी की मौजूदगी के बावजूद पुलिस मुंहतोड़ जवाब दे रही थी. आखिरकार, दुर्व्यवहार करने वाले दोनों दो पुलिसकर्मियों को भी निलंबित कर दिया गया।

निकोल में संयुक्त आयुक्त परमार के कार्यालय से फ़ोन के बाद भी नहीं दर्ज हुयी शिकायत

तीसरी घटना में, निकोल ने थाने में संयुक्त आयुक्त गौतम परमार के कार्यालय से उनके पीए ने फ़ोन कर महिला की शिकायत दर्ज कराने को कहा लेकिन उसके बाद भी शिकायत दर्ज नहीं की गयी , महिला को घंटों ठाणे में बैठाया जाता था। संयुक्त आयुक्त गौतम परमार ने मामले की जांच की और एक पीएसआई और चौकी लेखक को निलंबित करने का आदेश दिया। इस प्रकार, उच्च अधिकारियों द्वारा पुलिस को सूचित किए जाने के बावजूद, अनुशासनात्मक बल में इसकी नियमित रूप से अनदेखी की गई।

अब क्या कार्रवाई की जाएगी?

हालांकि इन घटनाओं के बाद नगर के संयुक्त आयुक्त आईजी गौतम परमार ने उच्चाधिकारियों को इसकी जानकारी दी और लोगों की शिकायतों को सुनने और पुलिस द्वारा अपनी ड्यूटी करने के लिए कार्रवाई की तैयारी की. आईजी गौतम परमार के नेतृत्व में जोन-4 के डीसीपी मुकेश पटेल और एसीपी रीमा मुंशी की टीम बनाई गई. टीम अब ठीक से व्यवहार नहीं करने वाले पुलिस कर्मियों के साथ-साथ पुलिस निरीक्षकों को भी प्रशिक्षित करेगी।

पुलिस कर्मियों को दीर्घकालिक प्रशिक्षण मिलेगा जबकि पुलिस निरीक्षकों को एक दिवसीय प्रशिक्षण का हिस्सा बनना होगा। सेक्टर-2 क्षेत्र के लोगों के साथ जल्द ही अच्छा व्यवहार करना और उन्हें पूरी शिष्टता से जवाब देना। लोग टैक्स देते हैं और सरकारी कर्मचारियों को उससे वेतन मिलता है। इस बारे में आईजी गौतम परमार ने कहा कि पुलिस स्टेशन सिर्फ लोगों के लिए बनाये गए हैं , कानून मुताबिक लोगों से अच्छे शिष्टाचार और अनुशासन की आवश्यकता है।पुलिस लोगों की मदद के लिए है।

पीआई, एसीपी, डीसीपी शिकायतकर्ता को झूठा बता देते

जब शिकायतकर्ता थाने के शिकायत कक्ष में जाता तो कुछ ऐसी घटनाएं हुईं जहां उन्होंने उसे उचित जवाब नहीं दिया। हालांकि जब उन्होंने शिकायत नहीं ली तो शिकायत कर्ता पीआई के पास गए लेकिन उन्होंने भी इससे परहेज किया। सेक्टर-2 के ज्वाइंट सीपी को शिकायतें मिलीं कि वे एसीपी और डीसीपी के पास जा रहे थे लेकिन वे उनसे नहीं मिले उन्हें भगा दिया जाता था .

आखिरकार जब आम लोगों ने शिकायत नहीं ली गयी तो वे आईजी गौतम परमार से मिलने गए और परमार ने उनकी बात सुनी और उनके आदेश के बाद शिकायत ली गई । हालांकि, जब संयुक्त सीपी ने स्थानीय पीआई या एसीपी से वादी के बारे में पूछा, तो उन्होंने कहा कि वादी गलत था और झूठे बयान दे रहा था। पीआई एसीपी की पोल तब पकड़ी गई, जब उन्हें खुद बाहर जाकर रियलिटी चेक करना पड़ा।

रियलिटी चेक के बाद छह पुलिसकर्मी निलंबित

सेक्टर 2 ज्वाइंट सीपी थाने की सही स्थिति का जायजा लेने के लिए जब आम आदमी बनकर मैदान में उतरे तो पीआई ,एसीपी ने जो कहा, उससे हकीकत काफी अलग निकली. इसलिए उन्होंने कागड़ापीठ के 2 अमराईवाड़ी में दो पुलिसकर्मियों को निलंबित किया . इसके बाद निकोल थाने के पीएसआई और राइटर को सस्पेंड कर दिया।

पुन: प्रशिक्षण के लिए छह माह के लिए भेजा जायेगा प्रशिक्षण केंद्र में

संवेदनशील सरकार का गृह विभाग पुलिस द्वारा लोगों के साथ दुर्व्यवहार को लेकर गंभीर है और अब लोगों के साथ उचित व्यवहार ना करने वाले पुलिस कर्मियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने के मूड में है. इस प्रकार, एक चर्चा के अनुसार, दुर्व्यवहार करने वाले और अक्सर जिनकी शिकायत होती है ऐसे पुलिस कर्मियों को गंभीरता से लिया जाएगा और उच्च अधिकारियों द्वारा रिपोर्ट किया जाएगा।

नतीजतन, उन्हें छह महीने के लिए प्रशिक्षण केंद्र में वापस भेज दिया जाएगा। सामने आया है कि इसमें कोई अधिकारी है तो अधिकारियों के बीच इस बात को लेकर अभी भी चर्चा है कि उसे प्रशिक्षण केंद्र में कितने समय के लिए भेजा जायेगा . हालांकि वरिष्ठ अधिकारियों ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि अभी कोई ठोस फैसला नहीं लिया गया है।

वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों की बंद कमरे में बैठक भी हुई

एक-दो पुलिसकर्मियों के कारण पुलिस के बुरे व्यवहार और सभी पुलिसकर्मियों की खराब छवि को सुधारने के लिए पुलिस अधिकारी कमर कस रहे हैं. उन्होंने बंद कमरे में बैठक की और स्पष्ट निर्णय लिए। मैराथन बैठक में नागरिकों को बेहतर सुविधा प्रदान करने और निकट भविष्य में पुलिस के व्यवहार में सुधार लाने और गृह विभाग को एक अच्छी छवि बनाने के लिए अधिकारियों ने गृह विभाग के मार्गदर्शन में प्रशिक्षण प्रदान करने का निर्णय लिया है. विभाग धीरे-धीरे इसे पूरे गुजरात में लागू करेंगा ।

वडोदरा में सांप्रदायिक हिंसा ,पथराव ,साई बाबा की मूर्ति तोड़ी ,पुलिस एलर्ट पर

Your email address will not be published.