पशुपालक समाज के विरोध को देखते हुए गुजरात सरकार ने आवारा पशु नियंत्रण अधिनियम किया स्थगित

| Updated: April 7, 2022 8:58 pm

गुजरात में सड़कों पर घूम रहे मवेशी अब तक कई लोगों की जान ले चुके हैं. लेकिन चुनावी वर्ष में राज्य सरकार ने पशुपालक समाज के दबाव के आगे विधानसभा से पारित आवारा पशु नियंत्रण अधिनियम बिल के अमलीकरण पर स्थगन कर दिया है , जब तक पशुपालक समाज की समस्याओं का समाधान नहीं हो जाता। पार नर्मदा ताप्ती रिवर लिंक प्रोजेक्ट के बाद यह दूसरा मामला है जिसका किसी समाज विशेष द्वारा विरोध किये जाने के बाद सरकार ने स्थगन का रास्ता अपनाया हो।

विदित हो की गुजरात उच्च न्यायालय में आवारा पशुओ को लेकर जनहित याचिका की सुनवाई के दौरान राज्य सरकार ने अदालत को भरोसा दिलाया था कि वह आवारा पशुओं को रोकने के लिए कानून बनाएगी।

जिसके तहत राज्य सरकार ने विधानसभा में आवारा पशुओं को लेकर एक विधेयक लाया था। लेकिन बिल के आने के साथ ही पूरे राज्य में पशुपालक समुदाय ने विरोध प्रदर्शन किया।

बिल को स्थगित करने की मांग मालधारी समाज द्वारा की जा रही थी। राज्य सरकार ने मालधारी समुदाय के विभिन्न अभ्यावेदनों को देखते हुए पशु नियंत्रण अधिनियम को निलंबित करने का निर्णय लिया है। राज्य सरकार के मंत्री और प्रवक्ता जीतू वाघाणी ने प्रेस कांफ्रेंस में यह जानकारी दी.

सरकार के मंत्री और प्रवक्ता जीतू वाघाणी ने कहा कि राज्य सरकार मवेशी नियंत्रण विधेयक पर किसी को परेशानी में नहीं पड़ने देगी. उन्होंने कहा कि आज मालधारी समाज के नेताओं के साथ एक बैठक भी हुई. मुख्यमंत्री ने कानून को निलंबित करने का फैसला किया है। उन्होंने कहा कि बिल को स्थगित करने का फैसला सभी चर्चाओं के अंत में लिया गया है ताकि किसी को परेशानी न हो.

मालधारी समुदाय के विरोध के आगे झुकी सरकार

मालधारी समुदाय का मामला सुलझने तक राज्य सरकार ने बिल को स्थगित कर दिया। पूरे राज्य में मालधारी समुदाय बिल का लगातार विरोध कर रहा था। मालधारी समुदाय ने भी विधेयक को निरस्त करने की मांग की। सरकार ने मालधारी समुदाय के साथ बैठक भी की। जीतू वाघाणी ने कहा कि जब तक समूह के मुद्दों का ठीक से समाधान नहीं हो जाता, तब तक कानून को स्थगित करने का निर्णय लिया गया है।

कांग्रेस प्रतिनिधिमंडल ने की राज्यपाल से मुलाकात


आवारा पशु नियंत्रण विधयक को लेकर प्रमुख विपक्षी दल कांग्रेस शुरू से ही आक्रामक थी , विधानसभा मे भी कांग्रेस ने विरोध प्रदर्शित किया था , गुरूवार को नेता प्रतिपक्ष सुखराम राठवा के नेतृत्व में कांग्रेस प्रतिनिधिमंडल ने राज्यपाल आचार्य देवव्रत से मुलाकात कर बिल पर हस्ताक्षर ना करने की मांग की थी , इसके पहले कांग्रेस ने जिला स्तर पर विरोध प्रदर्शन किया था। पार नर्मदा ताप्ती रिवर लिंक प्रोजेक्ट के बाद यह दूसरा मामला है जिसका किसी समाज विशेष द्वारा विरोध किये जाने के बाद सरकार ने स्थगन का रास्ता अपनाया हो।

क्या था बिल में


राज्य सरकार द्वारा घोषित बिल में पहले 10 हजार से 50 हजार रुपए तक के जुर्माने का प्रावधान था। लेकिन चर्चा के बाद जुर्माना 5,000 रुपये से बढ़ाकर 25,000 रुपये कर दिया गया। शहरी क्षेत्रों में मवेशी रखने के लिए लाइसेंस लेने का भी प्रावधान था। जिस जानवर को अनुमति के साथ रखा जाएगा उसे भी टैग करना होगा। कानून तोड़ने पर सजा का भी प्रावधान था। लाइसेंस मिलने के 15 दिन के अंदर पशु को टैग करने का प्रावधान था। किसी भी कर्मचारी ने जानवर को पकड़ने गए सरकारी कर्मचारी पर हमले के दौरान कार्रवाई करने का प्रावधान किया था।

जीतू वाघाणी ने शिक्षा सम्बन्धी बयान के बाद सार्वजनिक कार्यक्रमों से बनाई दूरी

Your email address will not be published.