अमेरिकी डॉलर के मुकाबले रुपया अब तक के सबसे निचले स्तर पर

| Updated: May 11, 2022 1:52 pm

रुपया सोमवार को अमेरिकी डॉलर के मुकाबले अब तक के सबसे निचले स्तर पर पहुंच गया। यह अर्थव्यवस्था के लिए एक बड़ी चुनौती बनती जा रही है, जो पहले से ही उच्च मुद्रास्फीति की चपेट में है। रुपया 51 पैसे गिरकर 77.41 के सर्वकालिक निचले स्तर पर आ गया, जो मार्च में अपने पिछले निचले स्तर 76.98 को तोड़ रहा था। साल की शुरुआत से रुपये में उतार-चढ़ाव रहा है। विदेशी फंड ने इस साल भारतीय इक्विटी से 17.7 अरब डॉलर की निकासी की है।

दिन के कारोबार में रुपया 77.52 के सर्वकालिक निचले स्तर पर पहुंच गया। शुक्रवार को रुपया 55 पैसे टूटकर 76.90 पर बंद हुआ था। पिछले दो कारोबारी सत्रों में अमेरिकी डॉलर के मुकाबले रुपये में 115 पैसे की गिरावट आई है। इस बीच, डॉलर सूचकांक, जो छह प्रमुख मुद्राओं के मुकाबले अमेरिकी डॉलर की मजबूती को मापता है, 0.33 प्रतिशत बढ़कर 104 हो गया। वैश्विक तेल बेंचमार्क ब्रेंट क्रूड वायदा 1.68 प्रतिशत गिरकर 110.50 डॉलर प्रति बैरल पर आ गया।

यूएस ट्रेजरी यील्ड में निरंतर बढ़त से डॉलर मजबूत हुआ और 10 साल के यूएस ट्रेजरी नोटों पर यील्ड पिछले दो दिनों में 14 बेसिस प्वाइंट बढ़ा। पिछले 10 साल की अमेरिकी उपज 3.17 प्रतिशत थी। घरेलू शेयर बाजार की कमजोरी ने भी रुपये को कमजोर करने में अहम भूमिका निभाई है।

अमेरिकी डॉलर सूचकांक, जो छह प्रमुख मुद्राओं के मुकाबले मुद्रा को मापता है, 104 को पार कर 20 साल के उच्च स्तर 104.07 पर पहुंच गया। 2022 में अब तक अमेरिकी डॉलर इंडेक्स 8% बढ़ चुका है।

Your email address will not be published.