5 ब्रोकरेज कंपनियों पर सेबी ने लगाया प्रतिबंध

| Updated: November 30, 2022 5:02 pm

बाजार नियामक सेबी ने मंगलवार को पांच ब्रोकरेज कंपनियों को कमोडिटी ब्रोकर्स के रूप में पंजीकरण के लिए नए आवेदन करने से छह महीने तक के लिए प्रतिबंधित कर दिया, क्योंकि वे एनएसईएल मामले में उपयुक्त और उचित मानदंडों को पूरा करने में विफल रहे।

प्रभावित कंपनियों में इंडिया इंफोलाइन कमोडिटीज, आनंद राठी कमोडिटीज और जियोफिन कॉमट्रेड को 6 महीने के लिए और फिलिप कमोडिटीज और मोतीलाल ओसवाल कमोडिटीज ब्रोकर को 3 महीने के लिए प्रतिबंधित किया गया है।

सेबी ने पांच अलग-अलग आदेश में कहा, ‘एक उचित व्यक्ति के लिए यह निष्कर्ष निकालने के लिए पर्याप्त सबूत थे कि एनएसईएल पर जोड़े गए अनुबंधों के रूप में जो पेशकश की जा रही थी वह कमोडिटीज में स्पॉट कॉन्ट्रैक्ट नहीं था।’

साथ ही कहा कि इन संस्थाओं ने संभवतः ब्रोकरेज कमाने की अपनी इच्छा से प्रेरित होकर, अपने ग्राहकों को एक उत्पाद तक पहुंचने के लिए एक मंच प्रदान किया। इसने उत्पाद के संबंध में उचित और प्रभावी परिश्रम करने की उनकी क्षमता पर गंभीर चिंता जताई।

सेबी ने कहा कि इसी तरह पांच ब्रोकरेज कंपनियां बिचौलियों के नियमों के तहत उचित मानदंडों को पूरा नहीं करते हैं।

इस साल जून में, प्रतिभूति अपीलीय न्यायाधिकरण (सैट) ने सेबी के 2019 के एक आदेश को रद्द कर दिया था, जिसमें पांच ब्रोकरेज कंपनियों को एनएसईएल मामले में उपयुक्त और उचित व्यक्ति घोषित नहीं किया गया था और नियामक को छह महीने के भीतर नए सिरे से मामले का फैसला करने का निर्देश दिया था।

ब्रोकरों ने सेबी के आदेश को सैट के समक्ष चुनौती दी थी।

Also Read: भारत में मातृ मृत्यु दर में आई गिरावट

Your email address will not be published. Required fields are marked *