देश में सरकारी स्कूल व्यवस्था से निराश हूं : केजरीवाल

| Updated: April 11, 2022 4:22 pm

दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने सोमवार को गुजरात के भावनगर जिले के सरकारी स्कूलों का दौरा किया. इसके बाद आम आदमी पार्टी के राष्ट्रीय संयोजक अरविंद केजरीवाल ने भी गुजरात की चरमराती शिक्षा व्यवस्था को लेकर ट्वीट किया है.जिसमे उन्होंने सरकारी स्कूल व्यवस्था पर निराशा जाहिर करते हुए उसे बेहतर करने का संकल्प लेने का आह्वान किया।

दिल्ली की शिक्षा पर जीतू वघानी के बयान पर मनीष सिसोदिया और अरविंद केजरीवाल समेत आप नेताओं ने प्रतिकार किया। उन्होंने वाघाणी की राय का विरोध करते हुए ट्विटर और मीडिया पर कई जवाब दिए। अपनी बात को साबित करने के लिए मनीष सिसोदिया ने गुजरात के स्कूलों का भी दौरा किया। उन्होंने गुजरात के शिक्षा मंत्री जीतू वाघाणी के नेतृत्व में सरकारी शिक्षण संस्थानों के खराब रखरखाव की भी निंदा की।

मनीष सिसोदिया ने अपने ट्विटर अकाउंट पर भावनगर के एक सरकारी स्कूल की तस्वीरें भी शेयर की हैं. उन्होंने अपने ट्वीट में कहा, ‘गुजरात में 27 साल से सरकार चला रही भारतीय जनता पार्टी ने कैसे गुजरात के लोगों को सरकारी स्कूल दिए हैं, इसकी एक झलक देखिए।

उनके ट्वीट से जुड़ी तस्वीरों में गुजरात के शिक्षा मंत्री जीतू वाघाणी के निर्वाचन क्षेत्र भावनगर के सरकारी स्कूलों की बदहाली और बदहाली को दिखाया गया है.

मनीष सिसोदिया ने मीडिया से बातचीत में यह भी कहा, ‘सरकारी स्कूलों की दीवारें टूटी हैं. वे बच्चों को बैठने के लिए फर्श तक नहीं दे सके। अगर चुनाव में 5-6 महीने बचे हैं, तो उन्हें ध्यान रखना चाहिए। नहीं तो गुजरात के लोग ऐसी सरकार लाएंगे जो उनके बच्चों को अच्छी शिक्षा दे सके।

इस दौरे के बाद अरविंद केजरीवाल ने सोमवार दोपहर 1:50 बजे ट्वीट कर कहा कि देश के सरकारी स्कूलों की हालत उन्हें परेशान करती है. “हमें आजादी मिले 75 साल हो चुके हैं। हम अच्छी शिक्षा का खर्च नहीं उठा सकते थे। क्यों? अगर हर बच्चे को अच्छी शिक्षा नहीं मिलेगी तो भारत कैसे आगे बढ़ेगा? उन्होंने अपने ट्वीट में जोड़ा।

आप के ” शिक्षा जाल ” में फसी भाजपा ,शिक्षामंत्री के यहा ही बदहाल स्कूल

Your email address will not be published.